Tuesday, May 5, 2009

हमारी बहने और बेटियाँ

कल शाम से ही न्यूज़ चॅनल पर शुभ्रा सक्सेना , शरणदीप कौर और किरण कौशल के चर्चे शुरू हो गए ! आखिर हो भी न , क्यों ? भारत में मध्यम वर्ग के लिए बना बेहतरीन नौकरी "आई ० ए ० यस ०" की परीक्षा में इन तीनो ने प्रथम , द्वितीये और तीसरा स्थान प्राप्त किया है !
दोपहर में भोजन करने गया तो रजत शर्मा वाले न्यूज़ चैनल पर इनके बारे में थोडा डिटेल से दिखाया जा रहा था ! बेटी और बीबी दोनों ध्यान से देख और सुन रहे थे और मै कनखियों से !
कुछ दिन पहले मेरे एक दोस्त ने कहा था - "किसी भी समाज के स्तर को जानना है तो उस समाज में औरत की क्या स्थिति है - वो पता करो " ! कहने का मतलब - किसी भी परिवार , गाँव , जात , शहर , राज्य या देश की सही मायने में उन्नत्ती पता करना चाहते हैं तो हमें यह देखना होगा की - वहां की औरत को कितना सम्मान और अधिकार मिला है !
बचपन दिन याद आ गया - जहाँ कहीं भी अपने अधिकार के लिए कोई महिला पाई गयी - उसको इंदिरा गाँधी की संज्ञान दे दी गयी ! दूर से ही लोग उसे इंदिरा गाँधी बोलने लगते थे ! अब कोई भी इन महिलाओं को इंदिरा गाँधी नहीं कहता - या यूँ कहिये - स्वीकार कर लिया है !
किसी परिवार में किसी महिला का राज चलता था तो उसे "पेटीकोट" राज कहते थे - अब ऐसे शब्द सुनायी नहीं देते हैं - सिवाय भारतीये जनता पार्टी के नेतागण के मुह के अलावा !
अब "इंदिरा गाँधी " और "पेटीकोट राज " की जगह - इंदिरा नूयी , कल्पना चावला और अब शुभ्रा सक्सेना जैसी महिलाओं ने ले लिया है ! लेकिन इस परिवर्तन को आने में काफी वक़्त लग गया ! और अभी बहुत कुछ बाकी है !
आर्थीक रूप से अगडा पंजाब में सब से ज्यादा "भ्रूण" हत्या होती है - यह या इस तरह का समाज कभी भी सही अगड़ा का पहचान नहीं हो सकता ! इससे लाख गुना बेहतर बिहार के गाँव का वोह गरीब है - जिसके यहाँ कन्या पूजा का प्रचलन है !
हमारे हिन्दू समाज में कन्या को हमेशा देवी का अवतार माना गया है - मसलन - शादी के समय - सिन्दूर दान के ठीक पहले - कन्या - वर के दाहिने तरफ बैठती है - मतलब वोह पुजनिये और आदरनिए है !
कुछ लोग समाज में बढ़ते तलाक़ को महिलाओं की प्रगती से जोड़ कर देखते हैं - मै ऐसा नहीं मानता - महिला तो मानसिक रूप से आगे बढ़ गयी - लेकिन में पुरुष अभी भी वहीँ है - फिर खुद अपने पैरों पर खडी महिला - कब तक अत्याचार सहेगी ?
अब अपनी सोच में बदलाव लायें - और बहन - बेटी को समोचित स्थान दें - अभी भी समय है -
रंजन ऋतुराज सिंह - इंदिरापुरम !

श्रीमती शुभ्रा सक्सेना इंदिरापुरम में ही रह कर पुरे भारत में सर्वोच्य स्थान प्राप्त किया - उनका प्रारंभिक पढाई - लिखाई - बोकारो के इर्द गिर्द हुयी - जो इनके प्रेरणा श्रोत हैं - और आशा है - वोह भारत की ग्रामीण परिवेश को भली भांती समझते हुए - समाज कल्याण में खुद को समर्पित करेंगी !

8 comments:

उपाध्यायजी(Upadhyayjee) said...

सत्य वचन मुखिया जी. जैसे धान का गाँव पुवाल से पहचान में आता है वैसे ही समाज का पहचान उसमे महिलावों के स्थिति से पता चलता है. आई ए एस अभी भी बहुत महत्वपूर्ण परीक्षा माना जाता है और इसमे महिलावों को शीर्ष पर देख अत्यंत प्रसन्नता होती है.

डॉ .अनुराग said...

अक्सर स्कूलों ओर बोर्ड के रिकार्ड यही बताते है की लड़किया आम तौर पे डिसिप्लिन ओर सिंसियर ज्यादा होती है....पर ये भी सच है कितनी प्रतिभाये ......घर ओर दूसरी जिम्मेदारियों में ख़ाक हो जाती है

RAJNISH PARIHAR said...

लड़कियों ने हर बार हर जगह अपनी काबलियत साबित की है..फिर भी वे समाज में उपेक्षित क्यूँ है..इस पर विचार किया जाना चाहिए..

हर्षवर्धन said...

बधाई

संगीता पुरी said...

वाह .. बोकारो का भी नाम रोशन किया .. बहुत बहुत बधाई।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

दुनिया बदलनी चाहिए। लड़कियों को समान अधिकार मिलने ही चाहिए।

Sanjay Sharma said...

सत्य वचन , सुन्दर लेखन की बधाई !

Fighter Jet said...

sahi kahan aapne..mahilaye to pragati kar gayi..purus abhi bhi...18th century ki mansikta ko dho rahe hai.