Saturday, December 20, 2008

महबूब कैसा हो ? पार्ट -४

तेरी बाहों में है जानम , मेरे जिस्म-ओ-जान पिघलते !
काफी दिनों के बाद शायद वर्षों बाद कल शाम "सिलसिला" देखी ! अमिताभ की कुछ चुनिन्दा फिल्मों में से एक ये भी है जिसके गीतों को मै कई हज़ार बार गुनगुना चुका हूँ ! १९८१ में जब यह रिलीज़ हुई उस वक्त शायद फ्लॉप हो गयी थी - पर संदेश और प्रेम के अनेक रूप इसमे देखने को मिलते हैं ! अमिताब गजब के स्मार्ट दिख रहे हैं वहीँ रेखा एक परफेक्ट "महबूबा" ! कुछ भी कहिये - अमिताभ की पेर्सोनालिटी के सामने बॉलीवुड के कई अभिनेता फीके नज़र आते हैं ! इस सिनेमा में कश्मीर की वादियों में अमिताभ जब रंग बिरंगे स्वेटर पहने अपनी भरी आवाज़ और लंबे कदमों से चलते नज़र आते हैं तो सिनेमा देख मज़ा आ जाता है !
कहानीकार के रूप में ख़ुद को विख्यात बनाने वाले "जावेद अख्तर " साहब इस सिनेमा में पहली बार "गाना" लिखे जिसे अमिताभ और लता दीदी ने अपनी आवाज़ दी है - " यह रात है .........यह कहाँ आ गए हम ..यूँ ही साथ चलते चलते ...." प्रख्यात संतूर वादक और वान्सुरी वादक श्री शिव और हरिप्रसाद चौरसिया जी ने संगीत क्या दिया - ये संगीत आज भी जवान है !
रेखा अमिताभ से १०-१२ साल छोटी हैं और इस सिनेमा को बनते हुए वक्त उन दोनों का प्रेम अपने चरम सीमा पर रहा होगा ! सिनेमा देख ऐसा लगता है - जैसे अमिताभ के लिए वक्त ठहर गया हो ! 36-37 वर्षीय अमिताभ सचमुच में एक मर्द नज़र आ रहे हैं - जिससे कोई भी "रेखा" निकल आए !



रंजन ऋतुराज सिंह , इंदिरापुरम

Friday, December 19, 2008

नीतिश कुमार ने "ललकार" दिया है !

नीतिश ने ललकार दिया है ! कुब्बत है तो चुनाव लड़िये ! राजनेताओं को गाली मत दीजिए ! बात में दम है ! लेकिन नीतिश बाबु - नेतागिरी को आपलोगों ने भले आदमी के लिए कहाँ छोडा है ? अब कौन राजेन बाबु आएगा ? आप लोग धर के उसको जात पात में ऐसा लपेटियेगा की वोह बेचारा बाप बाप कर के भाग खडा होगा ! आपको तो एक इमानदार ऑफिसर तक बर्दास्त नहीं होता है फिर भला कैसे आप राजनीती में अच्चे लोगों को बर्दास्त करेंगे ??
आप बिहार में क्या खेला खेल रहे हैं - सबको पता है ! मंत्री की क्या अवकात है वोह मंत्री से बेहतर कोई नहीं जानता होगा ! सवर्णों को लालू का भूत का किस्सा सुना सुना पर भूखे पेट सोने को मजबूर कर देते हैं ! कभी आस पदोश से आपके ऊपर चढ़ बैठा तो बन्दर बिल्ली वाला खेल शुरू हो जाता है ! 'पसना' में कभी भूमिहार तो कभी कायस्थ तो कभी राजपूत तो कभी बाबा जी लोग ! ई खेला में बहुत आराम से आप दूसरा चुनाव जीत जायेंगे !
अछ्छा , नीतिश बाबु , एक बात बताएं - ई चोर ऑफिसर सब आपको क्या 'नज़र' आता है ? या ये सब खाली हल्ला है ? जेतना बड़का बड़का ऑफिसर सब है सब का नॉएडा - दिल्ली में हर महिना एक कोठी ख़रीदा रहा है - आपको नज़र नहीं आता है या फेर आप आँख बांध कर बैठे हैं ?

पत्रकार लोग से इमानदार ऑफिसर को धमकी भेज्वाते हैं ! वाह ! भाई वाह ! चमचागिरी सब राजा को पसंद है ! कहे की मतलब की आप राजा हो ही गए ! बधाई हो ! ई सब खेला १,अन्ने मार्ग का है - जो वहां जाता है - राजा बन जाता है !


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Wednesday, December 17, 2008

महबूबा कैसी हो ? पार्ट - ३

अब जरा इनसे पूछिये की महबूबा कैसी हो ? चंदर से चाँद बन गए और फिजा को अपना लिया ! साली , मुहब्बत चीज़ ही कुछ ऐसी है ! वोह वाला गाना याद आ गया - 'ये दुनिया ये महफिल मेरे काम की नहीं ' ! जब स्वप्नसुंदरी मेनका सामने हो फिर 'विश्वामित्र' की क्या औकात ? पर , विश्वामित्र बनने को कौन बोलता है ? चंदर बन जाईये ! एक से मुक्ति पायें और दुसरे को अपना लें ! सिनेमा में मुहब्बत बहुत अच्छा लगता है और हकीकत में समाज गाली देता है ! "शिल्पा शेट्टी" और कंगना राउत वाला "लाइफ इन मेट्रो " देखा है , न ! बेहद ख़ूबसूरत और दिल के करीब ! पर हकीकत में ऐसा कुछ हो जाए तो मेरे जैसा "बिहारी" को फांसी पर लटका दिया जाए ! समाज न तो जीने देता है और न ही मरने ! बहुतों की फिदरत में घुट घुट के मरना नहीं लिखा होता है - सो वोह अपना रास्ता खुद ही बना लेते हैं !
"बुढाऊ" धर्मेन्द्र में दिव्यसुन्दरी हेमा आंटी को कुछ न कुछ तो जरुर नज़र आया होगा ! बस , यही "कुछ नज़र आना " सब बवाल का जड़ है ! कहते हैं ३२ वर्षीय राम को १४ वर्षीय सीता से धनुष तोड़ने के पहले ही वाटिका में "नज़र" मिल गयी थी ! वोह ! क्या जालिम घड़ी होगी ! रामायण लिख गया ! खुद से कई वर्ष बड़ी राधा के प्रेम में वंशी बजाते कृष्ण को हम सभी अपने घर में पूजते हैं !
पर असली आनंद तो नज़र मिलाने में ही है ! मिलाते रहिये ! बस स्टाप से लेकर ऑफिस तक ! नज़र से दिल का रास्ता को 'ब्लाक' कर दीजिए - आप खुश रहेंगे वर्ना पेट पर लात लगते देर नहीं लगेगा !
खैर , इंशाल्लाह ! चाँद और फिजा की मुहब्बत - चाँद के पैसे ख़तम होने के बाद तक भी बरक़रार रहे - हम तो बस यही दुआ कर सकते हैं !
तभी तो - 'रब ने बना दी जोड़ी " !


रंजन ऋतुराज सिंह , इंदिरापुरम !

Tuesday, December 9, 2008

मतवाला हाथी !

यूँ तो हम भी एक ब्राह्मण है ! लेकिन दादा- परदादा खेती बारी कराने लगे और छोटे मोटे खेतिहर बन गए ! बड़े बड़े जमींदारों को देख दरवाजे पर उनलोगों ने एक हाथी रख लिया ! हम सभी बचपन की हाथी की सवारी करते थे ! कभी कभी हाथी का महावत खेतों से उसको ले कर जाता था ! जिसके खेत की घुस गया - १०-२० किलो अनाज खा जाता था ! कभी गाली सुनने को मिलता तो कभी किसान चुप चाप ही रहते ! "कभी किसी खेत की हाथी अपना 'लीद' छोड़ दिया करता था - तब वही किसान खुश भी हो जाते , क्योंकि मुफ्त का 'खाद' मिल जाता था ! "
हमारे महावत होते थे - "अल्शेर मियां' ! उनका दो काम होता था - पहला - हाथी का देख भाल करना और दूसरा घर की बन्दूखों की नली को साफ़ करना !
एकबार हाथी पगला गया और "अल्शेर मियां' को पटक दिया ! ऐसा लगा की आज तो 'अल्शेर मियां ' की मौत आ ही गयी ! खैर , किसी तरह उनकी जान बची !
तो भाई लोग , आप लोगों को पता चल ही गया होगा की - इस बार के चुनाव की उत्तर प्रदेश का "हाथी" किसका खेत चार गया और किसके खेत की 'लीद' दे गया ! यह तो देश की प्रमुख राजनितिक हस्तियों को पता होगा !
पर महावत के रूप की हाथी की sawari कर रहे पंडित लोगों को हाथी के पागल होने के पहले ही सावधानी से रास्ता बदल लेना होगा !

रंजन ऋतुराज सिंह ,

Wednesday, December 3, 2008

बस यही अपराध मैं हर बार करता हूँ !

देखिये ! आप देख सकते हैं ! आप देख सकते हैं कि कैसे हम अपनी जान पर खेल कर आपको वह सब कुछ दिखा रहे हैं जो आप घर बैठे देख रहे हैं.जो आप देखना नही चाहते वो भी दिखाने को हम मोर्चा खोले बैठें हैं. इस देश का हम चौथा स्तभ हैं ,और जब स्तभ जमीं पर लुढ़क -लुढ़क कर मजबूत आधार दे रहा हो तो खतरों के निशान से ऊपर खतरा बह रहा है .ऐसा समझा जाना चाहिए . हम आपको बता दें कि वही सबकुछ हम अभी तक दिखा रहे थे जो आप आँख बंद करके देखना चाहा था .अब बात अलग है कि अभी सेना -पुलिस के मना करने पर वो सब कुछ हम नही दिखा पा रहे जो मेरा कैमरा अभी भी देख रहा है .हम नही चाहते कि आतंकवादी को हमारे जरिये कुछ मदद मिले .हम सेना पुलिस के साथ हैं हम उनकी कारवाई में खलल नही डालना चाहते. इसलिए लाइव दिखा कर आतंकी का लाईफ नही बढ़ाना चाहते.हम आपको साफ़ कर दें कि फिलहाल न तो हम "सबको रखे आगे " टी.वी. न "सबसे तेज टी.वी.'' हैं हम आपको बता दे फिलहाल दिल में इंडिया लिए मचल रहा हूँ मन तो कर रहा है कि सूचना के अधिकार के तहत आपको वो सब दिखा दूँ .पर ऐसा मैं नही करने जा रहा . हम आपको बता दे कि केवल दिखाने को मना किया गया हैबताने को मना नही किया गया है . हम आपको वह सब कुछ बताते रहेंगे .जो हम और हमारे कैमरे देखते रहेंगे. पर दिखायेंगे नही . जो दिखाया गया वो अनजाने में गलती से मिस्टेक हो गया. हम आपको बता दे कि हम “लाईव” नही दिखाते तो हमारे "फाइव" नही जाते . फाइव कहीं फिफ्टी न हो जाय इसलिए दिखाना बंद . हम आपको साफ़कर दें आतंकवाद से भिड़ने के तरीके में लोकतंत्र का हर स्तम्भ का मिस्टेक ,एक दुसरे के मिस्टेक को ओवरटेक करता गया है. हम आपको बता दे कि मिनट से ही घंटा बनता है . मेरे दिखाने से ५९ मिनट का काम ५९ घंटे तक चलेगा . पर आपको हम यकीं दिलाते हैं कि हमारा कैमरा नही चलेगा.आप देख सकते हैं कि अपने जांवाज कमांडो चारो तरफ़ से घेरे खड़े हैं .निचे कहीं आतंकी उतरे तो रेपिड एक्शन फोर्स के गोली का शिकार बनेगे , उनसे बचेगे तो ऐ टी एस ,ऐ टी एस से बचेंगे मुंबई पुलिस कि गोली से बच नही सकते .मतलब कि आतंकी पुरी तरह घिर गए हैं. गोलिया मेरी जुबान से भी तेज चल रही है . दहशत का माहौल हैदेखिये फ़िर से दो ग्रेनेड फेंक दिया है .एक कमांडो बुरी तरह घायल हो गया है अम्बुलेंस बुलाया गया है. देखिये ये सब हम आपको इसलिए नही दिखा रहे हैं कि हम नही चाहते कि आतंक का सहयोग हो. हम आपको बता दे आतंकी को लगातार फ़ोन पर पाकिस्तान से गाइड लाईन मिलने से आतंकी को लगातार लाईफ लाईन मिलती जा रही है .केवल दिखाने से ही उनकी मदद मिलेगी आंखों देखी बताने से मदद नही मिलती है सो हम बताये जा रहे हैं. लेट लेट कर , भाग-भाग कर .ये बात अलग है कि हमारे ऊपर भी ग्रेनेड दागे जा रहे हैं हमें उसकी परवाह नही है .हम सेना का मनोबल बढ़ने में विश्वास रखते हैं. अब ये अनुभव हर लड़ाई को लाईव करने में काम आएगा . देखिये पहले कमेंट्री रेडियो से होती थी अब टी.वी. पर प्रसारण होता है .हमारी टी.वी. को कभी मौका मिलता नही क्रिकेट मैच दिखाने का ,हमेशा सौजन्य से काम चलाता रहा , कोई फ़िल्म वाला अपने फाइटिंग सीन को कभी कवर नही करने दिया .वैसे आप सभी की इच्छा पूर्ति प्रतिबन्ध से पहले कर चुका हूँ .हम इनके प्रतिबन्ध को अनुबंध मानता हूँ .आप संयम और धैर्य धारण किए रहे क्योंकि हम इस बीच एक भी विज्ञापन तो दिखाया नही. फ़िर कहीं जाने की जरूरत नही है ,बने रहिये हमारे साथ . देखिये हम धैर्य और संयम के संगम में डूबे उतावले होकर जिम्मेवार मिडिया दिखाने में कोई संयम रख नही पाये हाँ अलबता देश के दुश्मन को आदर सूचक शब्द से नवाज़ते रहे .मतलब भाषा पर संयम कायम था .हमने आतंकवादी के लिए "वह " की जगह "वे" "ग्रेनेड फेंक रहा है " की जगह "ग्रेनेड फेंक रहे हैं." बोलता रहा .आप देख सकते है न्योता देकर बुलाने के बावजूद दो आतंकी और १०० अपने के ढेर होते ही "रद्दी रिजेक्टेड पाटिल " भारत माता की जय बोल रहे हैं ,जबकि ये अधिकार अबतक भाजपा अपने कोटे का समझ रही थी.उनके मुस्कान से लबरेज जयकारा से आगे की लड़ाई में जीत हाशिल हुई .जितने नेता आते गए अपने थोबडा दिखाने हम आपको दिखाते रहे . कल्ह हम फ़िर दिखायेगे जो सिर्फ़ हम दिखा सकते हैं.अपनी फजीहत कोई और न करे इसके लिए हम आपके सहयोग से नेताओं को कल्ह तरीके से घेरेंगे . हम लगातार ५९ घंटे तक बक-बक करते रहे .पर उनके एक लाईन से उनको लाईन हाज़िर करवा देंगे. आप देख सकते हैं कि क्या हमने जुगाड़ लगाया हैं ,कल्ह आपके घर आऊंगा ,आपको रास्ते में रोक कर पूछूँगाकि कैसा लगा मेरा हिम्मत से भरा लाईव दिखाने की हिमाकत .
अंत में हम आपको बता दें . हम चौबीसों घंटे तीन पाँच करते रहते हैं . क्या दिखाया जाय क्या नही दिखाया जाय उसकी समझ न होते हुए भी लोकतंत्र का सबसे समझदार स्तभ का तगमा अपने गले लटकाय रहता हूँ. और आपको हम ये भी बता दे कि ये देखने की चीज थी इसलिए ही बार बार दिखाया गया ,लगातार दिखाया गया ।
हर बार यह अपराध हमसे हो जाता है । आपकी नज़रें वो सब कुछ नही देख पाती जो मुझमे समाहित है .

Tuesday, November 25, 2008

रंग रसिया


बंगालन कामुक और ४१ वर्षीय ( नोबेल पुरस्कार के विजेता अमर्त्य सेन की पुत्री ) 'नंदना सेन' को देखने की इच्छा हो चली है !
राजा रवि वर्मा पर आधारित "रंग रसिया" भारत के किस वर्ग को पसंद आएगी , यह कहना मुश्किल है - पर मेरे विख्यात पत्रकार दोस्त श्री देवब्रत कहते हैं - काम - वासना कला के  नोक पर्  होती है जिसके बैगर धार नहीं आती !
प्रेम बिना वासना अधुरा है ! और काम बिना प्रेम अधुरा है ! भक्ति और प्रेम में अंतर होता है - शायद यही बहुत लोग समझ नहीं पाते हैं ! भक्ति में काम और वासना नहीं होती ! भक्ति सब से परे और सर्वोत्तम है ! पर काम और वासना का सफ़र बिना प्रेम अधुरा है ! और एक स्त्री और पुरुष ?? :))  खैर , यह मामला सिर्फ मेरे नज़र तक ही नहीं है ! आप सभी "रंग रसिया" देखिये और इस परिचर्चा में शामिल होवें !
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Wednesday, November 5, 2008

नॉएडा में महापर्व "छठ पूजा"

















रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा से
दालान के लिए !






Thursday, September 11, 2008

स्काईलैब की याद

कल जेनेवा के नजदीक जो कुछ भी वैज्ञानिक परीक्षण हुआ - सन १९८० के स्काईलैब की याद आ गयी ! उस वक्त भी ऐसा ही हंगामा हुआ था ! हम लोग बच्चa थे और बाबु जी और दादा जी के पास रेडियो ! रेडियो की तरह तरह की आशंका व्यक्त की जाती थी ! ऐसा लगता था की - मुजफ्फरपुर की ही ठीक हमारे दरवाजे पर ही - स्काईलैब गिर पड़ेगा ! हम बच्चे काफी आशंकित हो उठे थे ! उसी दौर की हर रोज "बिहार के भाग्य-निर्माता" जे प्रकाश जी की मृत्यु की ख़बर भी बेचैन कर देती थी ! unake karan कई बार स्कूल छुट्टी दे दिया करता था ! फ़िर शाम को पता चलता था की जय प्रकाश नारायण नही मरे और हम बच्चे खुश हो जाया करते थे की चलो जिस दिन वोह मरेंगे उस दिन तो छुटी जरुर मिलेगी !
एक चैनल है - इंडिया टीवी - एक दू घंटा लगातार देख लीजिये तो फ़िर आपको रात भर नींद नही आयेगी या फ़िर आप पागलपन के शिकार हो जायेंगे ! अजीब हाल है ! बिल्कुल "सत्य-कथा" और मनोहर कहानियाँ की तरह ! प्रेम -अपराध और ना जाने क्या क्या ?
रविश बाबु , बिहारी हिन्दी की समाचार पढ़ते नज़र आ रहे हैं ! डरते भी हैं - कहीं "बिहारी" का ठप्पा न लग जाए ! मेरी दादी कहती है - "कोई कहीं जाए -जहाँ का जन्म होता है - वोह उसके साथ हमेशा लगा रहता है " ! कहने का मतलब की - रविश बाबु - राष्ट्रीय समाचार पढ़ते वक्त - भोजपुरी स्टाइल हिन्दी नही चलेगा ! "राज ठाकरे" अंकल आपको घुर कर देखते हैं !

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, September 9, 2008

नीतिश भैया, सुनीता मर गयी


नंदू भैया (नंदकिशोर यादव, स्वास्थ्य मंत्री), सुनीता मर गयी। गणेश यादव ka sab kuchh loot gaya । कोसी क्षेत्र के पीएमसीएच में दो-तीन दिन की यंत्रणा के बाद सोमवार को अंतत: उसकी मौत हो गई। असह्य प्रसवपीड़ा से गुजरती उस सुनीता और वैसी अनेक बाढ़पीडि़त महिलाओं की ही नहीं, हजारों बीमारों की दुर्दशा से मैंने आपको आगाह किया था। पता नहीं, आपने ध्यान दिया भी कि नहीं? दुखद यह है कि वह सबको बताकर मरी; सबके सामने मरी। उसकी कोख में पड़े बच्चे का हाथ बाहर निकल गया था। मैंने शुक्रवार की रात करीब पौने एक बजे सुनीता को भारी कदमों से लेबर रूम की तरफ बढ़ते देखा था। पति गणेश यादव उसका हाथ थामे था। ब्लीडिंग से सुनीता की साड़ी लाल थी। आज ये खून सूखे हुए दिख रहे थे। भैया, मैंने आपको बताया था कि क्यों यह दंपति इस खौफ में से मर रहा है कि निर्वश न हो जायें। दरअसल उनके दो बच्चे वेगवती कोसी की नई धार में बह गये और आज आपकी व्यवस्था ने कोख वाले शिशु को जन्म ही नहीं लेने दिया। गणेश-सुनीता मजरूहा (त्रिवेणीगंज) से आये थे। आपके अस्पताल पहुंचने में सुनीता को पैदल लंबी दूरी तय करनी पड़ी। इससे पहले त्रिवेणीगंज अस्पताल में कई दिनों रहना पड़ा था। भैया, आपके सदर अस्पताल के डाक्टरों-नर्सो ने उसकी समुचित देखभाल नहीं की। खून चढ़ाने के नाम पर उसे प्राइवेट क्लीनिक भेज दिया। क्लीनिक वाले ने खून चढ़ाने के बाद फिर उसे अस्पताल भगा दिया। और इस सदर अस्पताल ने उसे फिर त्रिवेणीगंज भगा दिया। इस भागमभाग में सुनीता के पति गणेश ने भी उसका साथ छोड़ दिया, भाग गया। उसे लग गया था कि सुनीता नहीं बचेगी। आज सुनीता की मां दुलैर देवी उसे लेकर फिर सदर अस्पताल आयी। शाम चार बजे के करीब उसकी मौत हो गयी। उसकी लाश फर्श पर पड़ी थी। पिछले हफ्ते भर के दौरान उसे बेड तक नहीं मिला। अस्पताल बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष मंजीत कुमार सिंह दोषी डाक्टरों पर हत्या का मुकदमा चलाने की बात कहते हैं। भैया मैं फिर दोहरा रहा हूं-मौत के मुहाने पर खड़ी सुनीता देवी जैसी जिंदगियों की कमी नहीं है। सुनीता बस एक प्रतीक थी। यह बीमार इलाका और खासकर आपका यह अस्पताल आपके अस्तित्व को खुली चुनौती दे रहा है। इस अस्पताल को फौरन अस्पताल बनाइये, वरना यह सैकड़ों मौतों का कारण बन आपको, आपकी सरकार को बदनाम करायेगा। आप जैसे रहनुमाओं से जनता का भरोसा टूट जायेगा। अगर वाकई आप कोसी के आसन्न खतरों से जनता को बचाना चाहते हैं, लोगों को मेगा शिविर में रखना चाहते हैं, तो अपनी व्यवस्था को भरोसेमंद बनाइये। और सुनीताओं को मरने नहीं दीजिये। भइया, आप जानते हैं कि इस अस्पताल में सामान्य दिनों में भी सहरसा, सुपौल, मधेपुरा के लोग इलाज को आते हैं। प्रलय ने तो बीमारों की तादाद में कई सौ गुना की वृद्धि की है। आपके विद्वान अफसरों को भी इस बात से इनकार नहीं होगा कि यह संख्या और बढ़ेगी। जरा आप भी देखिये, वाकई कोसी के पीएमसीएच में इस लायक तैयारी है? सुनीता आपके दावों और उसकी शर्मनाक जमीनी हकीकत बता गयी। क्या उसकी मौत के जिम्मेदार चिह्नित होंगे; सजायाफ्ता होंगे? बहरहाल, नंदू भैया! एक और उदाहरण सुन-जान लीजिये। मुझे इसी अस्पताल में ऐसी ही एक टिमटमाती जिंदगी दिखी। यह है-पवन कुमार ठाकुर का 16 दिन का बच्चा। पवन सुपौल के रहने वाले हैं। वे अपने बच्चे को गोद में बिठा उसके नाक में आक्सीजन की पाइप लगाये हुए दिखे। ये क्या हो रहा है? भइया, आपकी नर्से कहां हैं? पवन की पच्ी अपने बच्चे को ऐसे निहारती रहती है, मानों उसके एक-एक रोएं को अपनी आंख में बसा लेना चाहती है, ताकि कल को कुछ हो जाये तो सब कुछ याद रहे। इस तरह की याद बड़ी खतरनाक होती है भैया। कुछ जल्दी कीजिये न! बहुत लोग मरने वाले हैं। आपकी सरकार को मेगा श्मशान घाट व कब्रिस्तान बनाना पड़ सकता है।
=======================================
साभार : दैनिक जागरण , पटना
=======================================
मुख्यमंत्री जी -
क्या गुनाह है इन हजारों "गणेश यादव" जैसे लोगों का ? यह पीडा आप तक क्यों नही पहुंचती है ?
------------------------
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Monday, September 8, 2008

बाढ़ मदद मे आगे आए बिहार के आई टी प्रोफ़ेशनल्स (Bihari IT professionals unite together to help their motherland)

कोशी के बाढ से सारा बिहार आहत है। इस दुख की घड़ी मे बिहार से बाहर रह रहे बिहारी भी उतना ही दुखी हैं। सभी चाहतें हैं कि इस प्रलय मे वे अपने राज्य के लोगो के लिये कुछ कर सकें। इस मुहिम मे बिहार के आई टी प्रोफेशनल भी जी-जान से जुटें है। दुनिया भर मे फैले आई टी इंजिनीयर्स बाढ़ रिलिफ का मुहिम अपने अस्तर पर शुरु कर रखें हैं। दुनिया भर मे फैले आई टी इंजिनीयर्स अपने अपने अस्तर पर अपने अपने समुहो मे बाढ़ रिलिफ समान इकठ्ठा कर बिहार मे भिजवा रहे हैं।
मैं खुद बहुत सारे याहूग्रुप के सहारे आई टी प्रोफ़ेशनल्स के संपर्क मे हुं. इस कार्य मे बिहार से संबंधित सारे याहूग्रुप्स के सदस्य एकजुट होकर बिहार के मदद मे जुट गये हैं. खास कर बिहारी(http://www.bihari.org/) याहूग्रुप (सबसे पुराना), वर्ल्ड बिहारी फ़ोरम , कुल बिहार , बिहार ब्रेन इत्यादी एक जुट होकर ग्राउंड ज़ीरो पर उपस्थित अपने सदस्यो के द्वारा बाढ रिलिफ़ मे लग गये हैं। सबसे मजेदार बात है कि हमसभी अपने कार्यों एवम खर्च का व्योरा अपने ब्लाग (http://biharfloodrelief2008.blogspot.com/) के सहारे मददगारों को अवगत कराते रहतें है। इस ब्लाग पर balance sheet जो कि गुगल पेज पर है के द्वारा एक एक पैसे का हिसाब दर्शाता है। हमारा उद्देश्य है दुनिया भर मे प्रलय की जनकारी देना और लोगो को बाढ़ मदद मे आगे आने के लिये प्रोत्साहित करना। लोगो को ये बताना है कि अगर आपको नहीं मालुम है कि कहां डोनेट करें तो चिफ मिनिस्टर फंड मे जमा कर दें.
हम सभी दुनिया भर के आई टी कंपनियों को इमेल लिख कर बाढ़ राहत मे आगे आने के लिये अनुरोध कर रहे हैं. बहुत सारी आई टी कंपनियां अपने अपने कंपनी मे बाढ़ राहत के लिये समान के अलावा फंड जमा कर रहीं हैं.
अब समय आ गया है कि हमलोग भी अपने मातृभूमी के सेवा मे कुछ कर सकें। इस दुख की घड़ी मे हम सभी एन आर बी (Non resident Biharis) बिहार की जनता के साथ हैं।
कुछ निउज कवरेज यहां पर भी पढा जा सकता है
Bihar Flood Relief – Your Contribution will save life
Bihari techies unite to help motherland

धन्यवाद
सर्वेश कुमार उपाध्याय
बंगलोर

Wednesday, August 6, 2008

ग़ज़ल की यादें

" मोहे आयी न जग की लाज - मै इतना जोर से नाची आज - की घुँघरू टूट गए " ! पंकज उधास की गज़ल्नुमा गीत मेरी पहली ग़ज़ल थी ! "ग़ज़ल" का क्या अर्थ होता है तब नही पता था ! उनका एक और ग़ज़ल था " बिस्तर की सिलवटों से महसूस हो रहा है - तोडा है दम किसी ने करवट बदल बदल के " ! कुछ दिनों के बाद जगजीत सिंह और चित्रा सिंह के ग़ज़ल के दीवाने हम हो गए - ख़ास कर अर्थ सिनेमा के ग़ज़ल्स - " एक जरा हाथ बढ़ा दे तो , पकड़ लें दामन - usake sine me sama जाए - हमारी dhadkan " ! कितने ख़ूबसूरत पंक्तियाँ है यह सब ! फिर थोडा बड़ा हुआ तो gulaam अली साहब को सुनने लगा - ख़ास कर निकाह का वोह ग़ज़ल - " चुपके चुपके तेरा वोह कोठे पे nange पावं आना याद है " ! इनका ही गया हुआ एक और ग़ज़ल मुझे बेहद पसंद है - " इतने मुद्दत बाद मिले हो - किन सोंचों में gum रहते हो -- हमसे न पूछो हिज्र के किस्से - अपनी कहो , अब तुम कैसे हो " " तेज़ हवा ने मुझसे पूछा - रेत पर क्या लिखते रहते हो " .......
अभी हाल में गुलाम अली साहब नॉएडा आए थे - एक महिला मित्र के अनुरोध और गुलाम अली साहब को सामने से गाते हुए देखने की इच्छा मुझे उनके काफी कैरीब ले गयी ! उनकी आवाज़ को आंखों से सुन कई गुजरे बरस याद आ गए !
पर मेरे पसंदीदा मेंहदी हसन साहब है ! गला में बीमारी की वजह से शायद अब वोह नही गाते हैं - " उसने जब मेरी तरफ़ प्यार से देखा होगा - मेरे बारे में बड़े गौर से सोचा होगा " मेरी पसंदीदा है ! फ़िर से वोह वाला ग़ज़ल - " मुझे तुम नज़र से गिरा तो रहे हो - मुझे तुम कभी न भुला पाओगे "
और अंत में
"वादा कर के अगर आप नही आयेंगे - नाम बदनाम ज़माने में वफ़ा का होगा "
इन्तेज़ार में

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Saturday, August 2, 2008

सावन से सावन, एक साल हो गए !

पिछले सावन में ही "दालान" का निर्माण हुआ था ! सोचा था - दिल की बातें होगी ! हमजोली और बेफिक्र इन्सान एक जगह बैठेंगे ! चाय चलेगा - शरबत चलेगा ! खटिया होगा ! वैभवशाली चंपारण कुर्सी होगी ! सभी विषयों पर गप्प होगीं ! थोडा प्यार और थोड़ा तकरार ! भाग दौड़ की इस जिंदगी से मुक्त - दो चार कुछ फुर्सत के क्षण भी होंगे !
जिंदगी इतनी आसान नही है ! सब कुछ पा लेने की तमन्ना में , बहुत कुछ हाथ से निकल जाता है ! जिंदगी एक सफर है - रास्तों में मिले भटकाव , मंजिल से बहुत दूर ले जाते हैं और अंत में जो मिलाता है वही पा कर आदमी संतोष कर लेता है !
मजबूत इरादा साधारण से साधारण व्यक्तित्व को असाधारण बना देता है ! छोटी छोटी खुबिओं को इकठ्ठा कर कोई भी महान बन सकता है ! पर , सब से जरुरी यह है की हमें जानना होगा की हमारे लिए क्या महतवपूर्ण है ! किस कार्य को पहले करना जरुरी है ! हम में से कई लोग भटकाव को ही मंजिल मान लेते हैं ! फ़िर दर्द से बेचैन हो जाते हैं ! अपने कदमों की दिशा को दोषहीन बताते हुए रास्तों और राहगीरों पर इल्जाम लगा देते हैं ! वर्तमान में हमारे लिए सबसे जरुरी क्या है - यह समझना सबसे जरुरी है ! बेवजह बेचैन होने से कुछ नही होगा !
हाल में ही एक ८० वर्षीय वैज्ञानिक से मिला - इस उम्र में भी वोह बड़े ही आराम से अपने विद्यार्थों को पढ़ते हैं ! वोह कहते हैं - जिंदगी में कई उतार चदाव देखे पर विचलित नही हुए !
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Friday, August 1, 2008

स्वावलंबी बनने की राह पर बिक्रम की महिलाएं

साभार : दैनिक जागरण
पटना। बिहार के पटना जिले के बिक्रम क्षेत्र की महिलाओं ने स्वावलंबी बनने का नया जरिया खोज निकाला है। सावन महीने में बिक्रम क्षेत्र के कई गांवों की महिलाएं हल-बैल और कुदाल लेकर खेतों की ओर चल पड़ी है।
गौरतलब बात है कि ये महिलाएं खुद हल भी चला रही हैं। बिक्रम के विभिन्न गांवों में महिलाओं ने समूह बनाकर किसानों से पट्टे पर जमीन ली और स्वयं मेहनत कर फसल उगाना शुरू कर दिया। बिक्रम प्रखंड के उदचरक गांव की मीना देवी ने बताया कि महिलाओं ने पहले महिला एकता मंच का गठन किया और फिर 20-20 महिलाओं का समूह बनाकर खेती शुरू की। उन्होंने बताया कि सामूहिक खेती से लाभ होने का अनुमान है। वे कहती है कि इस प्रकार की खेती के गुर आसपास की महिलाओं को भी सिखाए जाएंगे। सुंदरपुर गांव की हीरामनी देवी का कहना है कि इस कार्य से वे स्वावलंबी हो सकती है। यदि उन्हें बैंकों द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की गई तो वे उन्नत खेती करने में भी सक्षम हो सकती है। वे कहती है कि हम महिलाएं किसी से कम नहीं है। हम सिर्फ घर का काम ही नहीं खेतों का काम भी कर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत कर सकती है।
सामूहिक खेती के लिए इन महिलाओं को प्रेरणा देने का काम प्रगति विकास समिति द्वारा किया गया है। समिति के सह संयोजक उमेश कुमार बताते है कि उनकी योजना सभी गांवों को जोड़ने की है, जिससे आसानी से महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाया जा सके। इच्छाशक्ति और उत्साह से परिपूर्ण मनेर गांव की धर्मशीला का कहना है कि सरकार बड़े किसानों को तो बीज उपलब्ध कराती है, लेकिन जमीन नहीं होने के कारण वह इस योजना से दूर ही है। यदि उन्हे खेती का प्रशिक्षण, उचित साधन एवं बढि़या बीज उपलब्ध कराए जाएं, तो एक एकड़ में 45 क्विंटल तक धान का उत्पादन किया जा सकता है। बताया जाता है कि बिहटा प्रखंड के बारा, सुंदरपुर, चिहटा, पड़रियांवा, शिवगढ़, महजपुरा, मनेर और तेलपा जैसे गांवों में महिलाएं सामूहिक खेती कर रही है।


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Thursday, July 17, 2008

माँ और भूख !

दालान पर , कल्ह कादिरी मियाँ से संक्षिप्त मुलाकात का नतीजा है कई शेर अपनी यादों के जंगल से छोड़ गए मियाँ . इन दो के अतिरिक्त सब मेरे शिकार बने .और मैं इनका शिकार हुआ .दम है क्या इनमे ?
"एक निवाले के लिए मार दिया जिसको हमने ,
वो परिंदा भी कई रोज का भूखा निकला / "

" पत्थर उबालती रही एक माँ तमाम रात ,
बच्चे फरेब खाकर ,फर्श पे सो गए /

Friday, July 4, 2008

अच्छा लगता हूँ !

शब्द ज़माने का .वाक्य बन गया मेरे से . सो सर्वाधिकार सुरक्षित कैसे हो ? इन बने -बिगडे वाक्य को कविता, गीत ,गजल,या छंद क्या कहा जाय ,मालूम नही .

बस अच्छा लगता हूँ



आजकल सोचते हुए अच्छा लगता हूँ।
ख़ुद को कोसते हुए अच्छा लगता हूँ ।

दर्द जो सीने से उठकर, चेहरे पर गिरती है।
वापस,दिल में खोंसते हुए अच्छा लगता हूँ ।
रखके उनके लबों पर उनके हिस्से का मुस्कान,
अब अपनी आंसू पोछते हुए अच्छा लगता हूँ।

जो ख़त्म न हो इन्तजार उसका शौक पाला है ।
गुजरे लम्हों की बाट जोहते अच्छा लगता हूँ ।

व्यस्क हो चले ज़ख्मी दिल का खुराक भी बढ़ा है।
रोज लजीज दिलासे परोसते हुए अच्छा लगता हूँ ।
- संजय शर्मा

Tuesday, June 17, 2008

एक अस्पताल दिल से। अभयानंद की पहल !



एक अस्पताल दिल से। न कोई सरकारी मदद और न कोई ग्रांट की व्यवस्था, एक शख्स बस दिल से लग गया तो वैसे लोग भी मिलते गये, कारवां बढ़ता गया। एक उपेक्षित अस्पताल इस तरह अब आधुनिक नर्सिग होम की शक्ल में आ चुका है। यहां अल्ट्रासाउंड व एक्स-रे से लेकर अत्याधुनिक ओटी भी है। इसे सुंदर और सुविधाजनक बनाने के लिए जवान अपने परिजनों की स्मृति में रिसेप्शन पर टीवी व एक्वागार्ड लगवा रहे हैं। राजधानी के समीप फुलवारीशरीफ में बीएमपी-5 के परिसर में स्थापित यह अस्पताल अब नए लुक में है। झाड़ू देने वाले बुजुर्ग गणेश राम ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके हाथों कभी किसी अस्पताल का उद्घाटन भी होगा, पर यह सच हुआ। माह भर के भीतर रिटायर होने वाले गणेश राम ने अस्पताल के नये स्वरूप का उद्घाटन किया है। उन्होंने सोमवार को बीएमपी कमांड हास्पिटल को एक दर्जन बटालियन के जवानों की सेवा में समर्पित कर दिया। 13 पुरुष और चार महिला बेड वाले इस अस्पताल की सज्जा अब एक नर्सिग होम से कम नहीं है। अब इसका अतीत जानिये- यह वही अस्पताल है, जहां देर शाम लोग फटकते तक नहीं थे। वहां कुत्ते बड़ी संख्या में दरवाजे के पास ही रहते थे। अस्पताल का भवन था और पटना में रहने को ख्वाहिशमंद चार चिकित्सक भी यहां पदस्थापित थे पर इलाज कम और फर्जी सर्टिफिकेट बनाने का काम ज्यादा होता था। सिपाहियों के लिए सिक लीव यानी बीमारी की छुट्टी के लिए सर्टिफिकेट बनाने के अलावा यहां कुछ खास नहीं होता था। बीएमपी के एडीजी अभयानंद ने बताया कि जब वह यहां पहुंचे तो तय किया कि जवानों के इलाज की कुछ व्यवस्था करें। इसी क्रम में उन्होंने बीएमपी जवानों के एसोसिएशन के पदाधिकारियों से बात की। वे अस्पताल के नाम पर तैयार हो गए। तय हो गया कि एक-एक बटालियन से पचास-पचास हजार रुपए तो चंदे के रूप में आएंगे। इस तरह से बारह बटालियन के हिसाब से छह लाख का इंतजाम पंद्रह दिनों के भीतर हो गया। इस पैसे को लेकर हमें अस्पताल शुरू करना था सो हम उन लोगों के पास गए जो अस्पताल के क्षेत्र में अनुभव रखते हैं। लोगों में सहयोग की भावना क्या है, इसका अंदाजा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि लायंस क्लब आफ फेमिना की महिलाएं इस बात को आगे आ गई कि वह अस्पताल के जर्जर हो चुके बेड को ठीक कराकर उनके लिए गद्दे वाले बिस्तर की व्यवस्था कर देंगी। इसके बाद लायंस क्लब आफ पटना फेवरिट को जब यह पता चला कि गैर सरकारी सहयोग से अस्पताल बनाया जा रहा है, तो उन्होंने अपनी ओर से अल्ट्रासाउंड की व्यवस्था कर दी। इसके बाद रुबन मेमोरियल अस्पताल ने बीएमपी कमांड अस्पताल को एक्स-रे मशीन गिफ्ट कर दी। इसके बाद स्टेट बैंक के स्थानीय मुख्यालय के अधिकारी आगे आ गए। दरअसल बीएमपी के जवानों को वेतन स्टेट बैंक से ही मिलता है। स्टेट बैंक ने अपने पैसे से अस्पताल के ओटी को नया शक्ल दे दिया। इस तरह सहयोग का कारवां बढ़ता गया। एक उपेक्षित अस्पताल अत्याधुनिक उपकरणों और वातानुकूलित ओटी से लैस हो गया। एडीजी ने बताया कि अपने चंदे के पैसे से हमलोगों ने अस्पताल के पैथालाजी विभाग के लिए उपकरण व फ्रिज खरीद लिए। अस्पताल नये रूप में शुरू हो गया। यहां बाजार से आधी से भी कम दर पर सिपाहियों को पैथालाजिकल जांच की सुविधा होगी। पूरी तरह से मोर्बोनाइट फर्श और ग्रेनाइट के खंभे वाले इस साफ-सुथरे हास्पिटल में अब सिर्फ एंबुलेंस की कमी है। बीएमपी के पास चार बटालियनों में एंबुलेंस हैं। एक-एक दिन के लिए उसे यहां लाने की योजना पर काम हो रहा है। अस्पताल में अपनी दवाई की दुकान भी हो, इसकी व्यवस्था भी कर ली गई। सरकार से लाइसेंस लेकर अपनी आउटलेट भी शुरू कर दी गई है। अभयानंद के मुताबिक अस्पताल के संचालन के लिए जवानों का एक ट्रस्ट बना दिया जाएगा और वही ट्रस्ट इस अस्पताल को चलाएगा। मामूली शुल्क पर इलाज और जांच की व्यवस्था रहेगी। हर साल ट्रस्ट का चुनाव होगा। अस्पताल को लेकर जवानों में इतना उत्साह है कि वे अपने परिजनों की स्मृति में रिसेप्शन पर टीवी व एक्वेरियम आदि लगवा रहे हैं। बाहर के विशेषज्ञ डाक्टरों की पेड-सर्विस भी शुरू किए जाने की योजना है।

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Friday, June 6, 2008

मेरे मन के तार !

सन् १९८४ मे मेरे मन की बात कागज़ पर उतर आई थी .आज अचानक, न जाने क्यों ब्लॉग पर उतरने को बेताब दिखी . पर मैंने इसे ब्लॉग पर उतारा नही चढाया है .
कुछ तार मेरे मन के उलझे हुए है /
कुछ सार इस बात के सुलझे हुए हैं //

रोशनी मिली तो उठाई न नज़र /
अब तो सारे चिराग बुझे हुए हैं //
कुछ तार मेरे मन के .........

दुखाया है बड़ी बेरहमी से तेरा दिल /
एहसास इस बात के अब मुझे हुए है //
कुछ तार मेरे मन के .........

किस कदर दूं उस जख्म पे मरहम /
जो जख्म मेरे घात के तुझे हुए है //
कुछ तार मेरे मन के .........

Tuesday, May 13, 2008

बहुत दिनों बाद देस में

बहुत दिनों बाद देस में -सुरेंद्रनाथ तिवारी


"क्या हुआ? एकदम आनन-फानन में गाँव जाने का डिसीजन ले लिया?" मेरे मित्र डॉ. दास ने पूछा।"हाँ, डॉ. साहब, कुछ बात ही ऐसी है, इस बार २००४ में ७-८ मार्च की होली है और इस बार केवल गाँव ही जाना है, वह भी बस होली के लिए।"
यह निर्णय सचमुच ही केवल गाँव में होली बिताने के लिए लिया गया था। इतने दिनों अमेरिका में रहने के बाद ऐसे लिए गए अचानक निर्णय पागलपन ही हैं, इसलिए दास साहब के इस प्रश्न से मुझे आश्चर्य नहीं हुआ। योजना थी, जहाज़ से बनारस और फिर बनारस से ट्रेन से गाँव। मेरा गाँव चंपारण जिले के सेमरा स्टेशन के पास है। बनारस से ट्रेन से गाँव जाने का एक बड़ा फ़ायदा यह था कि यह पूरा रास्ता भोजपुरी-भाषी इलाके के बीच से होकर जाता है, और बहुत दिनों बाद यह इच्छा थी देखने की कि फागुन में यह इलाका सचमुच कितना सुंदर लगता है।
किशोरावस्था तक कई प्रयोजनों से मैं पूरे इलाके में घूम चुका था, एक बार फिर इच्छा थी उस सौंदर्य को निहारने की, ख़ास कर फागुन में। बनारस से उत्तर की तरफ़ गोरखपुर होते हुए अगर नेपाल की सीमा तक जाएँ और वहाँ से पूरब मुड़कर सीतामढ़ी, और फिर दक्षिण की तरफ़ मुजफ्फरपुर, वैशाली, फिर गंडकी का किनारा पकड़े पश्चिम में छपरा होते हुए, सोन नदी के साथ-साथ डिहरी-आन-सोन और फिर पश्चिम मुड़कर भभुआ के पहाड़ और कर्मनाशा पार कर बनारस के दक्षिण तक जो क्षेत्र बनता है, वह क्षेत्र मोटे तौर पर भोजपुरी-भाषी क्षेत्र कहा जाता हैं। भाषा एक होने के कारण दो प्रदेशों में होते हुए भी सांस्कृतिक एकता है।
इस प्रदेश ने महात्मा गांधी का पहला सत्याग्रह देखा था। इसने, भारत को पहला राष्ट्रपति (जीरादेई, सीवान के डा. राजेंद्र प्रसाद) और एक प्रधानमंत्री, बलिया के चंद्रशेखर, दिया है। यह इलाका लोकनायक जयप्रकाश का जन्मस्थल-कर्मस्थल है। संपूर्ण क्रांति का उद्घोष इसी मिट्टी से हुआ था। सासाराम के जगजीवन राम और रामसुभग सिंह नेहरू मंत्रीमंडल में मंत्री थे। अगर बनारस की साहित्यिक विभूतियों, जैसे प्रसाद जी, प्रेमचंद आदि छोड़ भी दें तो भी यह क्षेत्र हिंदी साहित्य का सारस्वत-संघ है। सर्वश्री रामबृक्ष बेनीपुरी, शिवपूजन सहाय, रामदयाल पांडेय, विवेकी राय, गोपालसिंह नेपाली, मनोरंजन प्रसाद सिंह, लोहा सिंह आदि इसी इलाके की देन हैं। राष्ट्रकवि दिनकर जी की कई सशक्त कविताएँ सासाराम में लिखी गईं थीं, जब वे यहाँ की शिक्षा-विभाग में थे।
इस क्षेत्र की एक दूसरी विशेषता यह है कि यहाँ के ही लोग गिरमिटिया मजदूरों के रूप में, ज़्यादा तादाद में, अंग्रेज़ों द्वारा फिजी, गयाना, मारिशस, ट्रिनीडाड आदि देशों में ले जाए गए थे। इसके कारण रहे होंगे, लोगों की सरलता और अशिक्षा, बेहद परिश्रम करने की शक्ति तथा गन्ना उपजाने का अनुभव।
गंगा जी के अलावा गंडक, सरयू, घाघरा, कर्मनाशा और कई छोटी सरिताओं से वलयित यह क्षेत्र समतल और बहुत ही उपजाऊ है। और इस उपजाऊ-पने के कारण मसुरी-खेसारी-मटर-अरहर जैसे दालों के फूलों से लेकर पूरे वर्ष कभी न कभी उडहल-बागनबेलिया-गुलाब-सेमर-गुलदाउदादी-गेंदा-जूही-रजनीगंधा आदि खिले मिल जाते हैं, बड़ी तादाद में, और सरसों-तीसी तथा सूरजमुखी का कहना ही क्या, जैसे किसी ने प्रकृति को पीली लाल चूनर पहना रखी हो। ऐसी प्राकृतिक संपदा से परिवेष्टित जीवन अगर अल्हड़ हो तो आश्चर्य क्या और यही अल्हड़ता भोजपुरी अंचल की विशेषता है।
बनारस में रात में अपने प्रिय मित्र प्रमोद जी के पास रहना था। शाम को भगवान विश्वनाथ जी के दर्शन कर निकलते ही भारी भीड़-भाड़ में देखा तो एक विक्षिप्त आदमी रास्ते में गा रहा था, शायद रंग और अबीर की दर्जनों दुकानों को देखकर :
"संउसे सहरिया रंग से भरी,
केकरा माथे ढ़ारूँ अबीर,
होकेकरा माथे ढ़ारूँ अबीर?"
यानी सारा शहर तो रंग से भरा है, किसके माथे अबीर ढ़ारूँ?
बनारस में लिच्छवी एक्सप्रेस लेट आई। बसंत के आगमन का आभास तो हमें पहले ही हो गया था- जब बनारस के म्युनिसिपल-पार्क में गदराई बागनबेलिया के रंग-बिरंगे फूलों के ऊपर सेमर का एक मात्र पेड़ अपनी लाल टेसुओं की पगड़ी बाँधे हँस रहा था। जैसे-जैसे ट्रेन पूरब की ओर बढ़ती गई, फागुन की धूप गुनगुनी आँच में सर्दी तपने लगी थी, हल्के कुहासे के पार, सरसों के खेतों की पीली चादर पर बिछी ओस, किरणों की ऊष्मा से पिघल रही थी, एक नए दिन की अगवानी में फ़ागुन का एक नया दिन घीरे-घीरे जग रहा था। ट्रेन के सामने से गुज़रते एक रेलवे-क्वार्टर में उड़हुल और जूही के पेड़ भी किरणों का स्पर्श पा अपने उनींदे फूलों को जगा रहे थे, और मुझे दिनकर जी की एक कविता याद आ रही थी,
मैं शिशिर शीर्णा चली, अब जाग री मधुमास-आली।
वर्ष की कविता सुनाने कूकते पिक मौन भोले,
स्पर्श कर द्रुत बौरने को आम्र आकुल, बाँह खोले,
पंथ में कोरकवती जूही खड़ी ले नम्र डाली।
मैं शिशिर शीर्णा चली, अब जाग री मधुमास-आली।
मेरी ट्रेन एक छोटे स्टेशन पर रुकी। सुबह की खुमारी ओस की तरह किरणों की आँच से उड़ रही थी, सामने की एक छोटी अमराई में 'भोली पिकी' आम के नए किसलयों में छिपी 'वर्ष की कविता' सुनाने को अकुला रही थी -- फागुन में खोया था।
छपरा पहुँचते-पहुँचते फागुन की वह गुनगुनी धूप जवान हो गई थी।अब हम सोनपुर में रुके हैं। सोनपुर में गंगा-गंडक के संगम पर पुराना और विशाल पुल है। यह गज-ग्राह की कहानी वाला स्थल है, जहाँ भगवान गज को ग्राह से बचाने आए थे। आज भी यहाँ का मेला, कुंभ के बाद शायद भारत का सबसे बड़ा मेला है। मैं ट्रेन की खिड़की से नीचे झाँकता हूँ - - गंगा से मिलने जा रही गंडकी के पश्चिमी किनारे पर दो लड़के अपनी भैसों को पानी पिला रहे हैं, नहला रहे हैं, मैं उनकी बातें तो नहीं सुन सकता पर एक लड़के की भंगिमा से लगता है वह हाथ उठाए होली या बिरहा गा रहा है। एक नाविक अपनी बाँस की पतवार थामे मस्त हो गा रहा है। गीत तो हर जगह जीवित है, बस गाने वाला चाहिए।
मेरी ट्रेन वैशाली जनपद में प्रवेश कर रही हैं, वैशाली - - संसार का पहला गणतंत्र, भगवान महावीर का जन्मस्थल, भगवान बुद्ध का विहार, सुंदरी आम्रपाली का जन्मस्थल, उसकी प्रणय-स्थली मुझे अपनी कविता की पंक्तियाँ याद आ रही हैं,
इन कुंजों में खेल खेलकर बड़ी हुई होगी अंबाली,
उसके अल्हड़पन से गुंजित अब भी उसकी डाली डाली।
आम्रपाली के प्रथम प्यार की साक्षी उसके गलियाँ आँगन,
उस अल्हड़ नूपुर की धुन को अब भी ढूँढ़ रही वैशाली।
बचपन में पढ़ी श्री रामवृक्ष बेनीपुरी की 'आम्रपाली' याद आती है, उतनी सुंदर आम्रपाली सचमुच किसी की नहीं - रचयिता अगर माटी में सन जाए तो रचना अद्वितीय होती है, बेनीपुरी जी स्वयं वैशाली के थे, आम्रपाली वैशाली की थी। हाजीपुर पहुँचते-पहुँचते रेलवे लाइन की दोनों तरफ़ खास कर गंगा जी की तरफ़ छोटे केले के पेड़ों का अतुल भंडार। गंगा जी तक फैला यह विस्तृत क्षेत्र ऐसे केलों के लिए भारत-प्रसिद्ध है।
हाजीपुर स्टेशन पर पंजाब से लौटते मजदूरों की कई टोलियाँ दीखती हैं जो होली में घर जा रही हैं। बिहार के बहुत से मजदूर बिहार की दु:स्थिति के कारण बाहर मजदूरी करने को मजबूर हैं। टोलियों में चर्चा के विषय दो हैं, 'अबकी गाँव में फगुआ कैसे होई' और 'तोहरा किहा फगुआ कहिया बा?' फगुआ याने होली। इस पर मुझे याद आता है कि इस बार होली के बारे में यह विवाद है कि वह सात मार्च को है या आठ मार्च को। मैं स्टेशन पर खड़े किसी युवक से पूछता हूँ, "कहिया बा फगुआ? सात के कि आठ के?"उसका तपाक उत्तर है, "जहिया मन करे, हमनी त दूनू दिन मनाईब।" यानी जिस दिन आपका दिल चाहे। हम लोग तो दोनों दिन मनाएँगे। और वह कृशकाय युवक ज़ोर से ठठाकर हँसता है।नवयुवकों से इसी उत्तर की आशा करनी चाहिए। उनके लिए तो फगुआ हर रोज़ है।
गाँव पहुँचकर इस बात की प्रबल इच्छा थी कि पिता जी के साथ में सरेह घूम आऊँ। सरेह यानी वह भूमि जिस पर लोग बसते न हो, जो कृषि मात्र के लिए है। सुबह तड़के उठकर हम सरेह चले, ओस अभी भी रबी की फ़सलों पर ऊँघ रही थी, मटर, बकला, आलू के नन्हें फूलों पर किरणें खेलने लगी थीं, गेहूँ अब फूटने लगा था। पहले गेहूँ के पौधे छोटे होते थे, अब वे बड़े दीखते हैं, शायद गेहूँ की दूसरी प्रजाति है। हम कई सरेह घूमते रहे। अब तो कई दशक हो गए, पर जिन खेतों में हमने मसूर बोया था, गेहूँ काटा था, उनके बोझे बनाए थे, उन बोझों को उठाकर खलिहान लाया था, आषाढ़ में जिन गन्ने के खेतों में हमने तीतर और पंडुक मारे थे, गन्ने चुराकर खाए थे, सब यथावत आँखों के सामने चित्र की तरह घूमने लगे थे। मुझे याद आ रहे थे, सिरिसिया सरेह में अगहन में धान काटने के बाद खेतों में धान के अकेले खूँट और उन्हें देखकर श्री रामदयाल पांडेय जी की कविता जो उन्होंने कटे खेतों को देखकर लिखी थी -
उजड़ दयार या चमन कहूँ?ओ बसुंधरे!
इस परिवर्तन को,निधन कहूँ या सृजन कहूँ?
टोरांटो से अमेरिका जाते वक्त रास्ते में मकई के विशाल खेतों में पड़े, कटे खूँटों को देखकर, वह कविता अब भी मन में गूँजती है।हम घर लौटे तो दुपहरिया हो चुकी थी, कुछ किशोर लड़के मेरे दरवाज़े पर खड़े थे,"सम्मत में आइएगा न, पंडी जी?" याने रात में जो संवत जलता है, उसमें मुझे शरीक होना है। रात में कोई बारह बजे मेरे भाई साहब मुझे जगाते हैं, "भइया, लड़के आए हैं सम्मत जलाने के लिए। जाइएगा?"
मैं आधा ऊँघता जाने को उद्यत होता हूँ। सम्मत गाँव के छोर पर जलता है। वहाँ जाते-जाते मेरी नींद समाप्त हो जाती है। ढोलक की आवाज़ तेज़ होती जा रही है, जैसे लोगों को उठाकर बुला रही हो। कुछ लड़के होरी गा रहे हैं, ज़्यादा इस फिक्र में हैं कि सम्मत की लपटें दूसरे गाँव से ऊँची कैसे हो, इस प्रयत्न में बहुत सी चीज़ें आग की भेंट चढ़ती हैं, कभी-कभी उन पड़ोसियों की खाट-कुर्सी भी जिनसे इन अल्हड़ किशोरों की दुश्मनी हो। मैं अलग-थलग-सा हूँ, सोच नहीं पा रहा कैसे शरीक होऊँ, पर ढोलक की आवाज़ बुला रही है म़ैं भी अगल-बगल फैले, बटोरे गए झाड़-फूस को आग में झोंकता हूँ, पुराना वर्ष जल रहा है, कल नया वर्ष आएगा।
दूसरे दिन, कोई दस बजे होंगे। किशोरों का एक झुंड, धूल-कीचड़ से सजा, गाँव की पगडंडी पर हुड़दंग करता घूम रहा है। परंपरा यह है कि सुबह-सुबह धूल-कीचड़ से होली खेलकर, दोपहर में नहाकर रंग खेला जाए, फिर शाम को अबीर लगाकर हर दरवाज़े पर घूमके फगुआ गाया जाए। पर फगुआ और भांग की मस्ती में यह क्रम पूरी तरह बिसरा दिया जाता है। ये किशोर अपनी पूरी मस्ती में हैं, कुछ ने अवश्य पी भी रखी है, एक दूसरे पर धूल उछालते, ये गाँव के पुराने कुएँ पर स्र्कते हैं, फिर आगे बढ़ जाते हैं। कुएँ पर दो महिलाएँ पानी भर रही हैं, एक अधेड़ पुरुष बाल्टी से पानी निकाल नहा रहे हैं। एक लड़का अपनी भर्राई-लड़खड़ाती आवाज़ में गाने लगता है,
आ हो भौजी,
तोरा नइहरवा कुआँरी बहिनिया भौजी,
कह त गवना करा के ले आईं।

दूसरा खिलखिलाकर हँसता है, उससे कहता है, "आरे बेकूफ, कुँआरी ना, कटारी, कटारी। गाने भी नहीं आता है।" और वह अपने बेसुरे स्वर में शुरू हो जाता है,"तोरा नइहरबा कटारी बहिनिया भौजी"
बाकी लड़के खिलखिलाते हैं और उनका समवेत स्वर गूँजता है :"आय हाय, कटारी बहिनियाँ। क्या गाना बनाया है।"मैं कटारी शब्द का हिंदी-अनुवाद सोचता हूँ, भावनाओं का अनुवाद नहीं होता। कटारी का मतलब हिंदी में शायद हो तीखे नाक-नक्श वाली।कुएँ वाली औरतें कुछ हंसती, शर्माती हैं, पुस्र्ष अपनी भद्रता में कहते हैं, "ये लड़के बिगड़ गए हैं।"मैं सोचता हूँ, बसंत आ गया है।दो बजने को आए हैं, दुपहरिया ढ़लने लगी हैं। मेरे दालान वाले चबूतरे पर कुछ लोग जमा हो गए हैं। मैं उनसे बातें करने में मशगूल हूँ, तब तक रंगों की एक पूरी बाल्टी मेरे दालान में खिड़की के पीछे से आकर बिख़र जाती है। चौकी, हमारे कपड़े, नीचे का कच्चा फ़र्श, सभी रंगों से भीग जाते हैं। यह अचानक हुआ हैं, मैं पीछे मुड़कर देखता हूँ, दरवाज़े के भीतर धोबी जाति की गाँव की एक अधेड़ महिला, जो मेरी भाभी लगती हैं, खड़ी खिलखिला रही हैं। साथ बैठे कुछ मित्र नाराज़ होते हैं, कुछ खुश। मुझे हँसी आती है। मस्ती में कह बैठता हूँ,"आई ना बाहरा, भीतरी का लुकाइल बानी? तनी हमहूँ त देखौं कि केतना निमन लाग तानीं।" यानी, बाहर आइए न, भीतरी क्या छुप रही हैं, ज़रा हम भी तो आपको ठीक से देखें कि आप कितनी खूबसूरत लग रही हैं।
वे भी चुहल में कम नहीं हैं।"मन बात भीतरी आँई, तब नू निमन से देखब।" यानी, मन है तो भीतर आइए, तब न ठीक से देख पाइएगा। लोग खिलखिलाते हैं।
कई किशोरियाँ रंग की बाल्टी लिए, रंगों से सनी, बांस की पिचकारियाँ भरे, मेरे आँगन में चली जा रही हैं। अंत:पुर में स्त्रियों की खनखनाहट मुखर हो गई है, रंगों की छप-छप, पिचकारियों का शोर कुछ-कुछ सुनाई देता है। मैं सोचता हूँ, मेरा आँगन लाल-लाल हो गया होगा, तभी मेरे गांव के मोहन भैया कहते हैं, "हमरो घरे बोलाहट बा, फगुआ खेले खातिर, बहुत दिन से अइबे ना कइनी हैं रउआ। मेरी पत्नी ने भी बुला रखा है फगुआ खेलने के लिए, आप बहुत दिनों से गाँव आए ही नहीं।"
मैं कहता हूँ, "ओ! जाइल ज़रूरी बा? अब त सब लोग गावे खातिर आवे लागल बा।" यानी जाना ज़रूरी है क्या, अब तो सब लोग गाने के लिए जमने लगे हैं, देर हो जाएगी।"नाहीं, तुरते चलीं, चल आवल जाई, जले लोग आइहें।" जल्दी चलिए, जब तक लोग आएँगे, हम लोग चले आएँगे।
मेरे छोटे भाई बाल्टी में रंग लाते हैं और बाँस की पिचकारी। मैं कुछ घर छोड़ मोहन भैया के घर पहुँचता हूँ। उनकी बिटिया, जिसकी शादी उन्होंने पिछले साल की थी, अपने नैहर आई है। वह आगे बढ़कर मेरा पाँव छूती है, मैं आशीर्वाद देता हूँ 'खुश रह।' मोहन भैया की पत्नी अपने कमरे में अंदर लजाती खड़ी है, घंूघट काढ़े। कोई दस वर्षों से मैंने उन्हें नहीं देखा है, मोहन सिंह ने कोई पैंतीस साल पहले कलकत्ते के जूट मिल में मजदूर की नौकरी कर ली थी तब से उसी नौकरी में रहे, कभी-कभी गाँव आते।
मोहन भैया मौन तोड़ते हैं, भोजपुरी मिश्रित हिंदी में,"अब क्या लजाती हैं, सुरेंदर जी आए हैं नू, बहुत रंग लगाने को कहती थीं, अब लगाइए ना।"
भाभी का मौन टूटता है, लज्जा मुखर होकर पिचकारी में बदल जाती हैं, और मैं सराबोर हो जाता हूँ, रंगों में। रंग तो मुझे भी लगाना है म़ैं सारी बाल्टी उठाकर उनपर उझल देता हूँ। उनका बदन सिहरता है। साड़ी भींग जाती है।उनकी बिटिया हम अधेड़ लोगों की यह रास-लीला देख हँसती है,"ठीक कइनी ह चाचा, कहिया से कहत रहली ह कि रउआ आइब त अबकी फगुआ ज़रूर खेलब।" यानी, चाचा आपने ठीक किया, कब से कह रहीं थीं कि आप आइएगा तो फगुआ ज़रूर खेलेंगी।
और उसके बाद कई घर, अधेड़-बूढ़ी होती भाभियाँ, रास्ते में मिली रंगों से भरी लड़कों, लड़कियों की टोली ग़लियों की धूल रंगों से भर गई हैं, हर आँगन में, दालान में माटी रंग गई है। मुझे बनारस का वह विक्षिप्त आदमी याद आता है, उसका वह गीत :संऊसे सहरिया रंग से भरीं।
मोहन भैया के दालान से परंपरागत रूप से होली शुरू होती है। वहाँ जमघट होने लगी है। तासा, ढ़ोलक, झाल और मजीरे की आवाज़ें आने लगी हैं।लोगों की, किशोर, युवा, अल्हड़, बूढ़े, सबकी लरजती आवाज़ फगुनी बयार पर चढ़कर वातावरण में तैर रही है। मेरे दालान में आकर वह टोली जमा हुई हैं। मेरे पिताजी अबीर की थाल आँगन से मँगवाते हैं, सबो को अबीर लगता है, मैं थोड़ी अबीर पिता जी को लगा, उनके चरण छूता हूँ।
ढोलक, झाल के स्वर धीरे-धीरे उपर उठ रहे हैं, एक लड़का शुरू करता है :"शिव बबा, रउरी लाल धजा, देखि हुलसे ला हमरो शरीर आहो शिव बबा।"यह भगवान शंकर की प्रार्थना है, शुभ काम ईश्वर की प्रार्थना से ही शुरू होता है, हे शिव बाबा, आपकी लाल ध्वजा देख मेरा शरीर हुलस रहा है। एक समवेत स्वर उठता है:

"हो हो शिव, आ हो शिव।
आ हो शिव बबा,
रउरी लाल धजा देखि हुलसे ला हमरो शरीर,
हो देखि हुलसे ला हमरो शरीर
आ हो लाला हुलसे ला हमरो शरीर..."
गीत की रफ़्तार तेज होती जा रही है और आवाज़ ऊँची ढोल, तासे की आवाज़ों में सभी झूम रहे हैं, तासा वाला लड़का खड़ा होकर नाचने लगा है, तासा ज़ोर-ज़ोर से पीट रहा है। सभी लोग घुटनों पर खड़े हो, उसकी तरफ़ मुख़ातिब हो, हाथ भाँजकर गा रहे हैं :

"रउरी लाल धजा, रउरी लाल धजा, देखि हुलसे ला हमरो शरीर..."
लगता है एक तरह का नशा छाया है सबों पर। ऊपर उठते, नीचे उतरते स्वर, ज़ोर-ज़ोर से, झाल, मजीरे की आवाज़ें, तासा पीटने की आवाज़ और फिर समापन।
दूसरे गीत से पहले, जगत भैया सबों को डाँटते हुए कहते हैं, "ए, तासा ठीक से नइखे उठत," यानी तासा की आवाज़ सही तरीके से ज़ोर से ऊपर नहीं उठ रही है। मुझे याद आता है, बचपन में जगत सिंह और भृगुनाथ सिंह दो भाई फगुआ गाने के लिए प्रसिद्ध थे, उनके बिना फगुआ पूरा नहीं होता था, उसी तरह कैलाश काका और कपिलदेव भैया। अब कोई नहीं रहे। केवल लखदेव काका हैं, कोई पचासी के आसपास के अवश्य होंगे, लाठी टेकते आ रहे हैं, इस उम्र में भी फगुआ के ढोल की पुकार वे अनसुनी नहीं कर पाए। मैं उन्हें सादर पकड़ कर दालान की सीढ़ियों पर चढाता हूँ, वे कहते हैं, "गोड़ लागीले महराजी।" यानी पंडित जी प्रणाम। मैं संकुचित हूँ, सोचता हूँ, मैं उन्हें क्या आशीर्वाद दूँ, मैं कहता हूँ, "काहाँ रह गइनी ह? हमनी राह देखत रहनी ह?" वे मेरे पिता जी के पास जाकर दीवार से सटकर बैठ जाते हैं।
जगत भैया फिर कहते हैं, तासा ठीक से नहीं बज रहा है, अब मेरे हाथों में वह शक्ति नहीं है, कोई अच्छा बजाने वाला नहीं है क्या? भोला हजरा, जो जाति से दुसाध हैं और मेरे बचपन के मित्र हैं, दीनानाथ सिंह की और मुखातिब होकर कहते हैं, "का हो दीनानाथ, बेइजती करईब?" उनका कहना है कि दीनानाथ, तुम हम लोगों की बेइज्जति करवाओगे क्या, अरे तासा सँभालो, और ज़रा फगुआ जमाओ। दीनानाथ आगे आते हैं, तीस पैंतीस के आसपास के युवा, और उनके तासा की आवाज़ और नेतृत्व पर पूरी टोली झूमने लगती है। दर्जनों गीतों पर दीनानाथ हम सबों का नेतृत्व कर रहे हैं, शुरुआत सबों की बैठकर होती है, पर जब स्वर उठने लगता है तो कोई भी बैठा नहीं रह पाता, समापन खड़े होकर ही होता है। दीनानाथ स्वर उठाते हैं:
घरहीं कोशिला मैया करेली सगुनवा,

बने बने राम जी का बीतेला फगुनवा।
यानी माँ कौशल्या इधर घर में सगुन करवा रही हैं कि रामचंद्र कब आएँगे और उधर श्री राम बन-बन में अपना फागुन व्यतीत करने को विवश हैं।
मुझे याद है, यह मेरी माँ का प्रिय फगुआ था। जब मैं सेना में था और कभी होली में घर नहीं जा पाता था तो वह अवश्य गाती थी।ऐसे ही कितने गीत, भक्ति के, रास के, जीवन के, कछ बानगी देखें :"हाथ लिए बेलपत्र के दौरा,मन से महादेव पूजेली गौरा"यानी हाथ में बेलपत्र की टोकरी लिए, गौरा-पार्वती महादेव शिव की पूजा मन से कर रही हैं।
राम खेले होरी, लछुमन खेले होरी,

लंका में राजा रावण खेले होरी,
अजोधा में भाई भरत खेले होरी।

हंसेला जनकपुर के लोग सभी
होलइका राम धनुष कैसे तुरिहें?
यानी जनकपुर के सभी लोग हँस रहे हैं कि राम तो अभी बच्चे हैं, धनुष कैसे तोड़ पाएँगे?
राधे घोर ना अबीर,

राधे घोर ना अबीर,
मंड़वा में अइलें कन्हइया।
यानी राधा, अबीर घोलो न, कन्हैया मंडप में आ गए हैं।
उठ सइयाँ लीख पांती,

भेज नइहरवा,
झूमक मोरा छूटे हो हो कोहबरवा।
यानी सइयाँ (पति के लिए भोजपुरी संबोधन), मेरे नैहर एक पत्र लिख दो, मेरा झूमक कोहबर वाले कमरे में छूट गया है। (झूमक, यानी कान की बाली और कोहबर उस कमरे को कहते हैं जहाँ शादी के बाद पति-पत्नी एक दूसरे से पहली बार मिलते हैं।)
नथिया में गुँजवा, लगा द सइयाँ हो,

मोरा नइहरवा अनारी सोनार-वा।
यानी सइयाँ मेरी नथिया में तुम्ही उसकी गूँज लगा दो, यानी कस दो, मेरे नैहर का सोनार अनाड़ी है।
और ऐसे दर्जनों गीत, भक्ति के, रास-रंग के!
चैत का पहला दिन, साल का पहला दिन, इसी भक्ति और रास-रंग में बीत गया है, हम दरवाज़े घूम कर फगुआ गाते रहे हैं, फगुआ अपनी भरी जवानी पर है, रात भी।अब रात भी काफी हो चुकी है। मेरा बदन अब काफी थक चुका है, मैं लौटता हूँ, लड़के अभी भी मस्त हैं।
दूसरे दिन मुझे लौटना है पटना। सुबह ही, कुछ मित्रों के आग्रह पर मुझे अपने विधायक जी से मिलने जाना पड़ा। पिछले साल की बाढ़ से बड़ी तबाही हुई है। गन्ने का उद्योग, जो मेरे इलाके के लोगों के लिए एकमात्र आधार था नगद पैसों का, पूरी तरह ठप है। बिहार की अराजकता अपनी चरम सीमा पर है। हमारे विधायक वर्तमान सरकार में मंत्री भी हैं, अत: उनसे मिलना, मिलकर इन समस्याओं का निदान निकालना ज़्यादा सार्थक हो, यही मित्रों की आशा है। मुझे ऐसी कोई आशा नहीं है, पर प्रयत्न आवश्यक है।
हम मंत्री जी के घर पहुँचते हैं, छपवा चौक। रास्ता पक्की सड़क होकर ही है, जिसपर रक्सौल-काठमांडू-भैंसालोटन जाने वाला पूरा ट्रैफिक दिनरात दौड़ता है। सुबह में रास्ते में देखता हूँ, मेरे गाँव की कच्ची सड़क जहाँ पक्की सड़क से मिलती है, वहाँ देवी का एक छोटा मंदिर है। पर चूँकि ट्रैफिक बहुत है, सड़क की दोनों तरफ़ कई दुकानें उग आई हैं। दुकानों में अलग-अलग रंगों के अबीर के ढेर बिक रहे हैं, रंगों का मेला, सुबह की धूप में चमक रहा है। 'छपवा और मेरे गाँव के बीच दो और गाँव हैं, दोनों गाँवों में सड़क की काली पीठ पर बरन-बरन के रंगों का कोलाज, घरों के बीच सड़क पूरी तरह रंगों से भरी पड़ी है। रात में खूब फगुआ हुआ होगा।
हम मंत्री जी के घर के बरामदे में इंतज़ार करते हैं। मंत्री जी तैयार हो रहे हैं। थोड़ी देर के बाद मंत्री जी खादी के नए धुले सफ़ेद धोती-कुर्ते में बरामदे में आते हैं। हमारी बातचीत होती है, बाढ़ के पानी की निकासी के प्रयत्नों, गन्ने के लिए विदेशी निवेश आदि पर कोई आधे घंटे बातचीत होती है। मुझे मंत्री जी की मिलनसारिता, आम लोगों की उन तक पहुँच, समस्याओं के बारे में उनके कुछ मूल विचार अच्छे लगते हैं।
तभी सामने कोई एक दर्जन लोग बाल्टी में रंग लिए आते हैं, कुछ रंगों से भीगे कपड़ों में हैं, कुछ की नंगी पीठ पर ही रंग बिखरे पड़े हैं। मंत्री जी भाँप जाते हैं कि ये लोग रंग खेलने आए हैं, लोगों से मिन्नत करते हुए कहते हैं, उन्हें आज ही पटना जाना है, अत: वे पूरी तरह तैयार होकर जाने के लिए निकले हैं, कृपया उन्हें रंग न लगाया जाए। अपने इस विनय में वे मुझे भी ढाल के रूप में प्रयोग करते हैं, "आ हई पंडी जी अमेरिका से आइल बानी, ई लोग उहाँ रंग-वोंग ना खेले। रहे दीं सभे, काल्ह फगुआ हो गइल नू।" यानी, देखिए, ये पंडित जी अमेरिका से आए हैं, ये लोग वहाँ रंग-वंग नहीं खेलते हैं। आप लोग रहने दीजिए, अरे कल फगुआ हो गया न।"
लेकिन उनकी यह दलील, उनकी मिन्नत कोई सुनने वाला नहीं है। एक आदमी, आधी फटी बनियान पहने, रंगों से ढँके चेहरे पर लाल अबीर लगाए, सामने आते हैं, कहते हैं,

"मंत्री जी आज अमिरका ना, सर्गा से केहू आवे, फगुआ त खेलहीं के बा।
आ रउआ पटना चल जायेब, अबहीं त बेरा बा।"
उनकी बात मुझे अच्छी लगती हैं, मंत्री जी आज अमेरिका ही नहीं, स्वर्ग से भी कोई आए, फगुआ तो खेलना ही है। और आप पटना चले जाइएगा, अभी तो पूरा दिन पड़ा है।
और हम पर बाल्टियाँ उझल दी जाती हैं आज कोई मंत्री नहीं, कोई मजदूर नहीं। फगुआ के रंग से सबों को नहाना है, 'संउसे सहर' को। मंत्री जी खाने का आग्रह करते हैं, "पूआ बनल बा पंडी जी, मगावतानी।" यानी पूआ बना है, मँगवाता हूँ। ह़मारी परंपरा है होली के दिन पुआ खाने की। मैं नकार जाता हूँ, लौटना है। मेरी लौटती यात्रा है, पटना से दिल्ली का जहाज़, चैत का झक-झक दिन, दाहिनी तरफ़ गंगा जी दीखती हैं, सोन पार करने के बाद, कोइलवर पुल के उस तरफ़ आरा जिला आएगा अपनी अक्खड़ता तथा स्वतंत्रता-सेनानी बाबू कुँअर सिंह के लिए प्रसिद्ध, उनकी वीरता की प्रशंसा में लोग होली गाते हैं,

"बाबू कुँअर सिंग तेगवा वहादुर,
बंगला में उड़ेला अबीर,
आ हो लाला बंगला में उड़ेला अबीर।"
मैं गुनगुनाता, गुनता चुपचाप बैठा हूँ, सोचता अभी बनारस आएगा, मुझे याद आता है श्री विश्वनाथ गली का वह विक्षिप्त आदमी और उसका फगुआ संउसे सहरिया रंग से भरी
कहाँ जा रहा हूँ मैं यह रंग-भरा शहर छोड़कर -


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, April 22, 2008

दिल मे छुपे बात और दर्द भी


शायद ऐसे कई दर्द और राज आपके दिल मे छुपे हों ! अमेरिका मे एक ऐसा ही मुहीम चल रहा है ! जहाँ लोग अपने घर मे बने हुए पोस्ट कार्ड से अपने दिल मे छुपे दर्द और कई बातों का इज़हार करते हैं ! ज्यादा के लिए आप http://postsecret.blogspot.com/ को देख सकते हैं !

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Wednesday, April 9, 2008

भारतीयता कोई बिहार से सीखे !

नवभारत टाइम्स
सुधांशु रंजन लिखते हैं :-

महाराष्ट्र की घटनाओं से बिहार के लोगों को गहरी तकलीफ पहुंची है। कुछ अरसा पहले बिहार विधानमंडल के साझा सम्मेलन में कुछ विधायकों ने 'मराठी राज्यपाल वापस जाओ' के नारे लगाए। बिहार के लोगों की पीड़ा को समझा जा सकता है, लेकिन यह कार्रवाई बिहार की परंपरा और संस्कृति के अनुरूप नहीं थी। बिहार की अपनी खामियां हैं, लेकिन भारतीयता के पैमाने पर उसने जो मिसाल कायम की है, वह काबिलेतारीफ है। इस पर चलकर ही यह देश खुश रह सकता है। बिहार को कई बातों के लिए नीची नजर से देखा जाता है। उसकी गरीबी और पिछड़ेपन का मजाक उड़ाया जाता है। उसके जातिवाद को बुराई की मिसाल बताया जाता है। लेकिन सच यह भी है कि प्रांतवाद या क्षेत्रवाद के कीटाणु इस राज्य में कभी घुस नहीं पाए। बिहारी अस्मिता हमेशा राष्ट्रीय अस्मिता से जुड़ी रही। हजार बरसों तक पाटलिपुत्र इस भूभाग की राजधानी रहा और पाटलिपुत्र का इतिहास ही देश का इतिहास बन गया। राजा जनक, दानी कर्ण, भगवान महावीर, भगवान बुद्ध, राजनयिक चाणक्य, सम्राट चंदगुप्त मौर्य, अजातशत्रु, अशोक महान, सेनापति पुष्यमित्र शुंग, दार्शनिक अश्वघोष, रसायन शास्त्र के जनक नागार्जुन, चिकित्सक जीवक और खगोलशास्त्री आर्यभट्ट जैसे महापुरुष इस धरती पर हुए, जिनसे भारत को अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली। इस परंपरा पर कौन गर्व नहीं करता? क्या इसे बिहारी परंपरा कहा जाएगा? भारतीय राष्ट्रवाद की परंपरा बिहार में आधुनिक समय में भी जारी रही। आजादी के बाद कोयले और लोहे पर मालभाड़ा समानीकरण की नीति को बिहार ने बिना किसी ऐतराज के स्वीकार कर लिया। इस कदम से बिहार की इकॉनमी की कमर टूट गई। समान खर्च पर लोहे और कोयले की दूसरों राज्यों तक ढुलाई की सुविधा का असर यह हुआ कि उद्योगों को बिहार आने की जरूरत नहीं पड़ी। वे दूसरे राज्यों में लगते गए। बिहार के संसाधन खुद उसके काम नहीं आए। गौरतलब है कि कॉटन के लिए यह नीति लागू नहीं की गई। एक और उदाहरण लीजिए। दिसंबर 1947 में बिहार विधानसभा में इस मुद्दे पर बहस चल रही थी कि दामोदर घाटी परियोजना में बिहार को शामिल होना चाहिए या नहीं। एक-एक कर कई सदस्यों ने कहा कि इस परियोजना से बाढ़ बचाव और बिजली उत्पादन का फायदा पूरा का पूरा बंगाल को मिलेगा, जबकि डूब और विस्थापन का खतरा बिहार को उठाना पड़ेगा। इस तर्क का जवाब सरकारी पक्ष के पास नहीं था। सिंचाई मंत्री को जवाब देना था, लेकिन उनकी जगह चीफ मिनिस्टर श्रीकृष्ण सिन्हा खड़े हुए। उन्होंने कहा, अभी 15 अगस्त को देश आजाद हुआ है, हम सबने अखंड भारत के प्रति वफादारी की कसम खाई है, लेकिन उसे हम इतनी जल्द भूल गए। अगर इस परियोजना से बंगाल के लोगों को फायदा पहुंच रहा है, तो क्या गलत है? वे भी उतने ही भारतीय हैं, जितने कि बिहार के लोग। बिहार ने अगर खुद को भारतीय अस्मिता के साथ एक न कर दिया होता, तो क्या वहां से इतनी बड़ी तादाद में गैर-बिहारी सांसद बनते? आजादी की लड़ाई के दौरान 1922 में परिषद के चुनाव लड़ने के मुद्दे पर कांग्रेस बंट गई थी। गया अधिवेशन में भाग लेने आए जयकर और नटराजन जैसे नेता जब अपने राज्यों से कांग्रेस कमिटी के प्रतिनिधि नहीं चुने जा सके, तो बाबू राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें बिहार से निर्वाचित कराया। यह सिलसिला चलता रहा। संविधान सभा में सरोजिनी नायडू बिहार से चुनी गईं। आजादी के बाद जे।बी। कृपलानी, मीनू मसानी, मधु लिमये, जॉर्ज फर्नान्डिस, रवींद्र वर्मा, मोहन सिंह ओबेरॉय आदि को बिहार ने अपना नुमाइंदा चुना। इंद्रकुमार गुजराल भी यहीं से राज्यसभा में पहुंचे।

क्या बिहार में प्रांतवाद इसलिए नहीं है कि उसका सारा ध्यान जातिवाद में लगा रहता है? कुछ लोग ऐसा तर्क दे सकते हैं, लेकिन ऐसा कहना बिहार के साथ अन्याय होगा। अखिल भारतीय सेवाओं के जो अफसर बिहार में तैनात हैं, वे मानते हैं कि उनके साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाता। एक मायने में बाहरी होना उनके पक्ष में जाता है, क्योंकि वे जातिगत समीकरणों से अलग रह पाते हैं।

खुद महाराष्ट्र की परंपरा भी ओछे प्रांतवाद के खिलाफ है। यह राज्य समाज सुधारकों, संतों और समाजवादियों का गढ़ रहा है। बाल गंगाधर तिलक और गोपाल कृष्ण गोखले जैसे महान नेताओं ने राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाया। तिलक ने पूरे देश से धन इकट्ठा कर डेक्कन एजुकेशन सोसाइटी की 1884 में स्थापना की। तब से आज तक सोसाइटी के पैम्फलेट के कवर पर यह साफ लिखा होता है कि जाति, धर्म, भाषा या प्रांत के नाम पर कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा। सोसाइटी की स्थापना में उन्हें गोखले और गोपाल गणेश आगरकर का सक्रिय समर्थन मिला। महर्षि कर्वे जैसे शिक्षाविद् भी इससे जुडे़। पुणे का मशहूर फर्गुसन कॉलेज उसी सोसाइटी की देन है। गोखले ने ही गांधी से कहा था कि देश में कुछ करना चाहते हो तो देश को समझो और देश को समझना चाहते हो तो देश में घूमो। बहरहाल, ये मिसालें पेश करने का मकसद यह है कि हम क्षेत्रवाद और राष्ट्रवाद को समझें। याद कीजिए कि ब्रिटेन की प्राइम मिनिस्टर मार्गरेट थैचर और रूस के प्रेजिडेंट मिखाइल गोर्बाचेव ने भारत से सबक लेने को कहा था, जहां इतनी विभिन्नता के बीच लोग साथ-साथ रहते आए हैं। अब अगर हम इस बात को भूलकर राज्यों के बीच फर्क देखने लगें, तो भारत का क्या होगा? हमें भारतीय राष्ट्रवाद से अपने टूटते तारों को फिर जोड़ना होगा। इस देश में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद सदियों से रहा है, भले ही राजनीतिक राष्ट्रवाद हाल की बात हो। हमारे यहां सात नदियों को पूजने की परंपरा रही है। ये नदियां सारे देश में फैली थीं। शंकराचार्य ने देश के चारों कोनों में पीठों की स्थापना की थी। आधुनिक समय में राजनीतिक राष्ट्रवाद की अवधारणा पैदा हुई, जिसके तहत हमने आजादी की लड़ाई लड़ी। हमारी खुशकिस्मती है कि सांस्कृतिक और राजनीतिक भारत का नक्शा लगभग एक जैसा है। भाषाई आधार पर प्रांतों का गठन काफी बाद की घटना है, लेकिन हमने इसे इतना तूल दे दिया है कि यह हमारे राष्ट्रवाद पर भारी पड़ रही है। इस ट्रेंड से बाहर निकलने के लिए हमें क्या करना चाहिए, इस पर सभी को विचार करना होगा। ( लेखक सीनियर जर्नलिस्ट हैं)


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, April 8, 2008

इस हमाम मे आप भी "नंगे" हो गए ! दुःख है !

मुझे यह नही पता नही था या इसका यह अहसास नही था की यह "ब्लॉग" की चर्चा मे पुरा देश लपेट मे आ जाएगा ! अखबार मे पहले पृष्ठ पर "जाति गत" गमले देख मैं स्तब्ध रह गया !
मैं शर्मिंदा हूँ अपने उन पाठकों से - अपने बचपन के दोस्तों से और अपने साथ वालों से की जति के जहर पर चर्चा ने सब के मुह को बेस्वाद किया ! हम सभी पत्रकार नही है - हमारी आवाज़ "हिंदुस्तान दैनिक" मे नही उठ सकती है - हमारे पीछे कोई राज नेता नही है ! और न ही हम सभी कोई दवा कम्पनी के "दलाल" हैं ! न ही किसी राजनेता के इशारे पर कर रहे हैं और न ही किसी "दवा कम्पनी " से उगाही का इरादा है !
दुःख सिर्फ़ यह हुआ की "दवा के व्यापार " को जति से जोड़ दिया गया ! ठीक कुछ महीनों पहले उक्त 'कथित पत्रकार' ने एक रिपोर्ट मे आईडिया कम्पनी के प्रचार को जोर शोर से दिखाया - वह वही प्रचार था जिसमे एक खास जति को लड़ते हुए दिखाया गया ! ये वही कथित पत्रकार है - जिनके रिपोर्ट से बाकी दुनिया जानी ! उसके पहले "कथित पत्रकार" ने उपन्यास लिखने के दौरान लगातार एक खास जाती को निशाना बनते चले गए ! उसी दौरान - बिहार के एक बाहुबली विधायक पर न्यूज़ रूम से लेकर कैमेरामन तक एक साजिश रची और फलस्वरूप खुलेआम न्यूज़ रूम से खास जाति को बाहुबली विधायक से जोड़ दिया गया ! किसी भी ब्रह्मण के लिए यह कितना कष्ट दायक होगा जब हम यहाँ दिल्ली मे बैठे - यह घोषित कर देन की बिहार के सबसे कुख्यात अपराधी "सतीश पण्डे" को पूरे ब्रह्मण समाज का आशीर्वाद प्राप्त है - यह सरासर अन्याय होगा ! जबकि पुरा बिहार जनता है की सतीश पण्डे एक खास जाति के खून के प्यासे हैं और वह जितने खुद कर चुके है - उसमे अधिकतर एक खास जाती के ही निर्दोष लोग हैं ! अगर "जातिये दुराग्रह " पर आधारित ऐसे आरोप भारत के प्रतिभाओं को गाली देना होगा ! देश मे आज भी कई एक से बढ़ कर एक प्रतिभावान "ब्रह्मण" हैं ! कहाँ भी जाता है - देश को तीन ब्रह्मण चला रहे हैं - तमिल ब्रह्मण , कश्मीरी ब्रह्मण और मैथिल ब्रह्मण ! क्योंकि इनसे तेज कोई जाति नही है ! पर सतीश पांडे जैसे अपराधी को भारत के समस्त ब्राहमणों से जोड़ कर देखना कितना उचित होगा ? ठीक उसी तरह किसी दवा व्यापारी को , किसी बाहुबली विधायक को या किसी पत्रकार को जाति की नज़रों से देखना किसी भी पढे लिखे इंसान को शोभा नही देता है !
आप बड़े हैं - आप आदरनिये हैं - आप समाज मे अपनी एक पहचान रखते हैं - आपको जातिगत निगाह से किसी ख़ास जाति को अपने तीर से लगातार निशाना बनाना शोभा नही देता ! इस तरह के हथकंडों से आपकी गरिमा नीचे गिरती है !

आज के दौर मे जाति कहीं से भी ना तो आपकी पहचान है और न ही मेरी ! हमारा ब्लॉग गाओं मे बैठा कोई नही पढ़ रहा है - जिसके बदौलत मुझे कोई राजनीती करनी है - और ना ही आपको - फ़िर यह जाति का जहर क्यों ? क्या आप डाक्टर के यहाँ जाति देख कर इलाज कराने जाते हैं ? क्या दवा कम्पनी की जात देख कर दवा खरीदते हैं ? या फ़िर आप नया इतिहास लिखेंगे ?
इस हमाम आप बिल्कुल नंगे खड़े हैं ! जातिये दुराग्रह छोडिये और उपन्यास लिखिए !
"बिहार" जैसे प्रान्त को सपूत की जरूरत है यह ना की अपनी माँ के फटे आँचल को दुनिए के सामने बेचने वालों की !
मैं उन सभी लोगों से क्षमा प्रार्थी हूँ जिन्हें मेरे लेख से दुःख हुआ होगा ! व्यक्तिगत हमलों के दौरान शायद हम सभी ने जातिये हमले भी किए होंगे - जिसका इरादा और सोच बिलकूल नही थी !
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Saturday, April 5, 2008

कम्बल ओढ़ के हम घी पी रहें है या पानी ?

मैं बिहार मे पैदा हुआ दिल्ली मे प्रगतिशील पत्रकार कहलाता हूँ . सर नेम को झटक कर जाति से अपने परहेज की मात्रा मापी जाने लायक बना लिया है . शुरू से ही दुबे ,चौबे, झा ,मिश्रा ,तिवारी ,त्रिपाठी , सिंह , शर्मा , चौहान जैसे सरनेम नेम से विलीन हो गुप्त आचरण मे समाहित हो , चाहता रहा .और मिलीमीटर से भी कोई मेरे ब्रह्मनत्व को माप न पाये इसके लिए मैं सरनेम पासवान, राम , बाल्मीकि, बैठा , प्रसाद ,मंडल, महतो आदि सरनेम नेम से न जुदा हो , इसका हिमायती रहा हूँ. खोज-खोजकर इनको दोस्त बनाता हूँ सो स्वाभाविक क्रिया के तहत साथ उठना बैठना खाना पीना सब चलता रहता है . इनकी आवाज़ उठाते रहने से ताली , खाली नही जाती.और अपनी धर्मनिरपेक्षता का क्या कहना ? हम तो अपने पत्रकारिता धर्म को भी ठेंगा दिखाते रहते हैं , क्या मजाल की इंसानियत का धर्म मेरे से नज़र मिलाये . ब्राह्मण और हिंदू होने के वावजूद मैंने जनेऊ से लेकर 'शिखा 'तक उखाड़ लेने का पक्षधर रहा . शंकर महादेव को "शंकर महादेवेन " से ज्यादा भाव कभी न दिया . अयोध्या के बानर सेना वाले सीताराम को ४ विदेशी कुत्ता पालनहार श्री सीताराम येचुरी से अधिक महत्व न देने का प्रमाण पत्र मेरी जेब मे ही रहता है . हिंदू पूजा पद्धति के ख़िलाफ़ समूचा देश मे, पर बंगाल के ज्योति बाबू की काली पूजा को मुस्लिम के नवाज के समकक्ष ही रखा .
मेरे टाइप के लोगों को "मोदी" मे "मद" और "बुद्धदेव" मे "मध"[शहद ] नज़र आता है .प्रगतिशीलता के नए मापदंड [-अपने "शील" को प्रगति देकर यानी चलायमान रख कर विरोधियों की प्रगति को येन केन प्रकारेण "सील" करना ] पर बिल्कुल खरा उतरने को आतुर एक पत्रकार ही तो हूँ . " रेड लेबल " के पत्रकार कहलाने के लिए क्या-क्या न किया कथित उच्चे कुल मे जन्म लेकर , अपने कुल सहित समस्त उच्चे कुल को गालियों और गोलियों से रौदता रहा रौदवाता रहा .इस तरह सामाजिक न्याय दिलाने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता आया .पत्रकार की कोई जाति नही होती ,धर्म नही होता उपर्युक्त बातों से साफ हो गया होगा . अब पत्रकारिता की कोई सीमा नही होती इसको भी साफ कर ही दूँ .मैं बिहारी बिहार से चला .मात्र १८-२० घंटे की यात्रा ने बिहार को भुला देने मे मेरी मदद की . दिल्ली से दूर तक देख पाने की शक्ति मिली . नक्शे पर समूचा हिंदुस्तान क्या चीन, रूस देखता रहा .चीनी रूसी लेखक के अलावा अपने टाईप के धर्मनिरपेक्ष के धर्म गुरुओं का किताब चाटते रहे .अध्ययनशील रहने की बीमारी से ग्रषित हो जाने के कारण आंखों की नजदीकी नजर जाती रही दुरी का विस्तार मेरी सीमा का विस्तार करता गया . बंगाल की करतूत हमे तबतक नही दिखाई देती जबतक की वहाँ कांग्रेस या भाजपा न आए . मोदी को देख सकता हूँ पर उसकी अच्छाई धुधला दिखता है , और उसकी बुराई थोड़ा सा भी दिखे तो परिमार्जन विद्या से पहाड़ मे परिणत कर देने मे ज्यादा टाइम नही लगाता . और बिहार का क्या जहाँ सांप्रदायिक ताकत से मिलकर सरकार चलाने वाला नीतिश को पहले सड़कछाप मुख्यमंत्री बता दिया गया है . बाढ़, सूखा ,अतिवृष्टि का दंश झेलता चार बीघे जमीन वाले को माओवादी के धमकी भरे पत्र को प्रेम-पत्र से ज्यादा कुछ मैं नही समझता . जातिवाद का जहर कम न पड़े इसका प्रयास हमे जारी रखना है अपनी खोजी पत्रकारिता के तहत .क्योंकि इधर मैंने देखा है उच्च जाति ने छुआछूत को छू भी नही रहा . पढे लिखे साफ सुथरे दलित ,अर्धदलित के साथ आम सवर्ण भी घुलनशील होता जा रहा है , ठीक मेरी तरह . ये सर्वाधिक चिंता का विषय है मेरी और मेरी विचारधाराओं के लिये . ख़ुद को मैंने कई बार मार कर खबरों का खुदा बनने की कोशिश की .गिनिए कितनी मौत मरा हूँ ,कितनी बार अपने आपको मिटाया हूँ . अपने सरनेम को मिटाया , अपनी जाति मिटाई , अपना हिंदू धर्म मिटाया , अपना प्रान्तवाद मिटाया . फ़िर ये कुछ सामंतवादी लोग मेरे धर्म और निरपेक्षता मे फासला कायम करना चाहते हैं .कितनी ग़लत बात है ? है कि नही ? अरे साहेब इसीलिय सलमा आगा के दुःख के बराबर मेरा भी दुःख है ."ख़ुद को भी हमने मिटा डाला मगर , फांसले जो दरमिया से रह गए ." खैर कम्बल ओढ़ के हम घी पी रहें है या पानी ? ये हमारे साथी को पता चलेगा तभिये न दुरी बढायेगा .अभिये से बुरबक की तरह तनावोचित बिहेवियर सर्वथा अनुचित है .

Friday, April 4, 2008

कमाल के हैं - "कमाल खान " !

प्रणव राय के न्यूज़ चैनल मे "कमाल खान " एक रिपोर्टर हैं - आप इनके रिपोर्टिंग को देखें - मंत्र - मुग्ध हो जायेंगे ! बिल्कुल सरल और साफ पानी की तरह ! एक दिशा मे बिना किसी विद्वेष और "दुराग्रह" के ! रमजान के महीने मे इन्होने मक्का - मदीना के बारे एक रिपोर्टिंग की ! शायद "वाह ! जनाब और लाजबाब " जैसे शब्द भी कम पड़ जायेंगे ! दुःख है की यह कोई "ब्लॉग" नही लिखते हैं और दिल्ली मे इनका कोई हितैषी भी नही है ! मैंने पूछा - आप दिल्ली क्यों नही आ जाते ! मुस्कुरा दिए ! मैं समझ गया - यहाँ कई "नाग" बैठे हैं - जो पल भर मे इनके "पत्रकार" जीवन को डस - सदा के लिए सुला देंगे ! "कमाल खान को सिर्फ़ उर्दू ही नही आती है - यह संस्कृत के श्लोक भी धारा प्रवाह बोलते हैं ! यह किसी पर दुराग्रह से प्रभावित कोई हमला नही करते हैं - पर अपने "कॉम" की सुंदर तस्वीर देने से जिझाकते भी नही हैं !
" कमाल , तुझे मेरा सलाम " !
इलेक्ट्रोनिक मीडिया इतनी गंदी और गुटबाजी की शिकार हो गयी है की कहना मुश्किल है की किसका चेहरा बेदाग है ! "पुण्य प्रसून" जैसे वक्ता को भी नही बख्शा जाता है ! कुछ लोग पत्रकारिता को बाप-दादा की जमींदारी समझ लिए हैं - जमींदारी छीन जाने के डर ने इनको आक्रामक बना दिया है - इनके आक्रमण के शिकार कई भले मानुष हो जाते हैं - वह बेचारे कुछ बोल नही पाते हैं - पिछले साल इलेक्ट्रोनिक मीडिया मी कई "चाल" चले गए - शायद आप सभी को पता ही होगा !
कभी कभी यह पत्रकार वर्ग ख़ुद को इतना मजबूत पता है की सता को गिराने का ठेका भी ले लेते हैं ! पिछले साल पटना के एक बाहुबली विधायक पर हमला और फ़िर उसकी पोल खोल ने जग जाहिर कर दिया की - दिल्ली के न्यूज़ रूम से लेकर पटना के कैमरा मन तक सभी के सभी इस गंदी राजनीती के हिस्सा थे ! अब ये उस प्रकरण पर कुछ भी नही बोलते !
एक अजीब सा वातावरण बना दिया जता है - पिछले साल राम नाथ गोएंका अवार्ड के असली विजेता और सही रूप मी पत्रकारिता का काम कर रहे लोगों की चर्चा किसी ने नही की - बल्की क्षेत्रिये पुरस्कार के विजेता को कंधे पर बैठा लिया गया - क्योंकी यह पत्रकार - दिल्ली मे बैठा अपने जाती के पत्रकारों का "अर्जुन" है !
इस अर्जुन- द्रोणाचार्य के गठजोड़ मे कई एकलव्य बरबाद कर दिए गए और किए जा रहे हैं ! यह अंतहीन "तमाशा" कब तक चलेगा - पता नही ! -

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Wednesday, March 26, 2008

मार्च का महीना और बहुत कुछ ! भाग - १

मार्च का महीना "गजब" का महीना होता है ! मुझे लगता है यह महीना बाकी सभी महीनों मे सबसे महताव्पूर्ण होता है ! बिहार और देश भर मे इस महीना मे "मैट्रिक" का परीक्षा होता है ! बिहारी लोग इस परीक्षा को एक "पर्व" की तरह मानते हैं ! घर मे जो परीक्षार्थी होता है - उसको वरती के रूप मे मान लिया जाता है ! एक जमाना था जब पूरे गाँव के हर घर से एक दू वरती होता था ! माँ और बेटी दोनों एक साथ परीक्षा देते हुए देखा गया है ! एक साल पहले से "वरती या परीक्षार्थी" को लोग टोकना शुरू कर देते हैं - " तब , इस बार है , नु " ! मामा - मामी , चाची- चाचा , फुआ - फूफा - बड़ा भाई - छोटा भाई - घर परिवार , आस पड़ोस , पट्टीदार - गोतिया , सभी के सभी आपको ध्यान मे लाते हैं - कभी कभी थोडा बहुत पढे लिखे नौकर भी टोक दिया करते हैं !
मैट्रिक का परीक्षा अपने आप मे एक "प्रोजेक्ट होता है ! कहीं कहीं यह देखा गया है की - जिस शिक्षक से बाप ने पढ़ा - बेटा का मार्ग-दर्शन भी वही शिक्षक करते हैं ! प्रे बोर्ड के बाद - गेस पेपर खरीदना से लेकर - चिट पुर्जा के तकनीक - यह सभी " परीक्षार्थी" की कुशल प्रबंधन और स्टेटस को बताते हैं ! घर परिवार मी कुछ लोग कुशल मैट्रिक परीक्षा प्रबंधक होते हैं - उन लोगों विशेष रूप से बुलाया जाता है ! जहाँ परीक्षा केन्द्र बना हैवहाँ कोई चित परिचित खोजा जाता है - कभी कभार या अधिकतर जगहों पर देखा गया है की परीक्षा केन्द्र के "चपरासी" जितना काम कर जाते हैं - उतना बड़ा से बड़ा अधिकारी भी नही ! परीक्षा केन्द्र पर एक अलग नजारा होता है - बिल्कुल मेला की तरह - होम गार्ड के जवानों के पास साल भर मी कमाने का पहला और अन्तिम मौका होता है ! परीक्षा ख़त्म होते ही वही "चपरासी" बताता है की कॉपी कहाँ कहाँ गयी है ! फ़िर शुरू होता है - जांच केन्द्रों मी अपने आदमीओं की खोज !
आने वालों सालों मे यह एक मील का पत्थर होता है - लोग बात चिट मे कहते हैं - फलाना के बेटा के मैट्रिक के परीक्षा मे मेरा "छाता " खो गया टू कोई कहता है की होम गार्ड के डंडा से मेरा कुर्ता फट गया !
वक्त बदल गया - आज २१ साल हो गए मुझे मैट्रिक पास किए हुए - सब कुछ आंखों के गुजर रहा है - जैसे कल की ही बात है !
खैर ...... क्रमशः
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, March 25, 2008

वेतन आयोग !

बाबु जी को ५०० मिलाता था ! एकदम मस्त जिंदगी था ! रिक्शा अपना सवारी था ! सप्ताह मे २ दिन आलू दम और दू दिन मीट - भात भी बन जाता था ! शाम को हम लोग खेल कूद भी कर लेते थे ! सैकील से स्कूल भी चले जाते थे ! मौका मिला त बाबु जी के "लेम्ब्रेटा" पर लटक भी जाते थे ! साल मे दू बार कपडा - लत्ता भी खरीदा जाता था ! पाकिट मे चार आना और गप्प हांकते स्कूल पहुँच जाते थे ! जो दोस्त यार सैकील या स्कूटर रखता था - वह अपना समाज से अलग हो जाता था ! लंच मे चार अन्ना मे आलू चौप वाला चाट खा कर जो आनंद मिलाता था वह शायद डोमिनो पिज्जा मे नही मिलाता है ! होली मे पटना के सब्जी बागः से रु ३५/- वाला कुरता मे जो मजा था वह मॉल से खरीदा हुआ दीजैनदार कुरता मे नही है !
सब कुछ , जी हाँ , सब कुछ बाबु जी के ५०० मे ही हो जाता था - वह भी मजे से ! अब त कुत्ता बिल्ली , गदहा - बैल सबको कई हज़ार मे वेतन मिलता है - फ़िर भी सब बेचैन है ! ई , आला दर्जा का "सरकारी बाबु " सब का माथा ख़राब हो जाएगा - इतना तनखाह मिलने के बाद - क्या ये लोग "घूस" कमाना बंद कर देगा ? हमको टू नही लगता है :( !
साला समाज भी अजीब है - अगर आप "सरकरी बाबु " है और घूस के पैसा से पटना के पाटलिपुत्र मे एक कित्ता माकन नही है या फ़िर दिल्ली - नॉएडा मे २-३ थो फ्लैट नही है टू "समाज" से इज्जत की बात छोडिये - आपके बेटा - बेटी का बियाह होना मुश्किल हो जाएगा ! "बाबु" का मतलब ही लोग समझता है की - झाड़ के पैसा !
फ़िर दोषी कौन हुआ ? समाज जो आप पर दबाब बनाता है ! सरकारी नौकरी नही लगा त - प्राइवेट मी नौकरी कर ली - और प्राइवेट मी भी नही टीक पाये त बिजिनेस - अब बिजिनेस वाले को दोनों हाथ लूटते देख बेचारा सरकारी वाला क्या करेगा ?
अब त खबरिया वालों को भी भरपूर पैसा मिलने लगा है - अधिकतर टू वही लोग है - जो पटना - भोपाल- बनारस से दिल्ली आए थे कलक्टर बनने के लिए और सरकारी मी चपरासी भी नही बन पाये - हिन्दी - अंग्रेज़ी थोड़े अछ्छी थी सो "पत्रकार" बन गए - अब हज़ार की कौन पूछे - लाख मी पैसा कमा रहे हैं -
कहने का मतलब जब समाज का बौधिक रूप से कमज़ोर तबका भी लाख - करोड़ का बात कर रहा है टू सरकारी कर्मचारी को कुछ मिल ही गया टू इतना हंगामा क्यों ?
वैसे त आप लोग मुंशी प्रेमचंद की कहानी "नमक का दरोगा" टू पढ़ा ही होगा ! :)
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Saturday, March 15, 2008

झारखण्ड फ़िर एक बार और बिकेगा !

कई साल पहले मई एक सरस्वती के आराध्य के घर गया पर आश्चार्य हुआ की उनके यहाँ "लक्ष्मी" की फोटो लगी थी - पूछने पर बताया गया की - सभी "रास्ते" यहीं आते हैं ! यह बात आज तक मेरे मानस पटल पर अंकित है लेकिन दिल मनाने को तैयार नही है ! पर कब , तक ?

राज्यसभा चुनाव आते ही फ़िर से एक बार - वनवासियों का प्रदेश "झारखण्ड" बिकने को तैयार है ! मुकेश अम्बानी के दूत श्री परिमल नाथ्वानी जी निर्दालिये उम्मीदवार के रूप मे राज्य सभा के लिए तैयार है ! जीत स्वाभाविक है ! पर कई साल जमीन के धूल चाटने वाले राजनीतिक उम्मीदवारों का क्या होगा ?

पैसा मे बहुत दम है - यह मेरा ८ वर्षीय बेटा भी जानने लगा है ! शायद उसे एक शिक्षक पुत्र होने और महानगर की संसकृति की दबाब ने बहुत कम उमर मे "काफी परिपक्वा" बना दिया है ! उसे पता है - उसके पिता क्या खरीद सकते हैं और क्या नही - शायद यही "आभाव" उसके उज्जवल भविष्य को इंगित करता है !


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, March 11, 2008

होली आ रहा है - भाग १

पेट भरुआ बिहारी लोग अगला सप्ताह से घर जाने का तैयारी कर रहा होगा ! लालू जी के ट्रेन से गाँव जाएगा ! इस मौसम मे ट्रेन मे सीट मिलाना किसी सौभाग्य से कम नही है ! सुना है नीतिश जी 'चका चक' बिहार बना रहे हैं ! तब तो जाना और जरुरी है ! देखेंगे - कुछ 'जुगाड़' होगा त वहीं रूक जायेंगे ! अब , ई रोज रोज का राज ठाकरे का गाली और तेजेंद्र खन्ना का लाठी कौन सहेगा ! हम त "पुण्य प्रसून " भैया को भी यही बोले थे ! कहाँ यहाँ २ का ४ के चक्कर मे फँसे हुए हैं ! "होली" के बहाने से चुपके से बिहार सरक लीजिए ! "पटना दरबार" मे गुन गान कीजियेगा - कुछ न कुछ जरूर ही मिल जाएगा - नही मिलेगा त मोतिहारी वाला दरबार चले जाईयेगा !
मेरे जैसा पेट भरुआ लोग शायद नही जाए ! किसी के बेटा का "एक्साम" है तो किसी की बीबी का ! किसी को छुट्टी नही मिल रहा है तो किसी को टिकट ! वैसे नया नया जो दिल्ली आया है - वह तो ट्रेन मे लटक के ही जाएगा - जब तक वह लटक के नही जाएगा - उसको लगेगा ही नही की वह दिल्ली कमाने के लिए आया है - भाई , कुछ पसीना बहना चाहिए न !
मेरे जैसा खबरिया चैनल देखने वाला - कौन कैसे "होली" मनाया मे बिजी रहेगा ! आडवाणी जी बाबा के यहाँ गए या यशवंत सिन्हा रवि शंकर प्रसाद के यहाँ ! कुछ लोग सुबह से ही तुन रहेगा ! एक दिन पहले से ही बिना नाम वाला मैसेज आने लगेगा - अप खुश होंगे फ़िर तबाह हो जायेंगे ! जिसको आप भेजेंगे वह आपको नही भेजेगा - कोई और जिसका नाम आपके फोन मे नही है ! तरह तरह का मैसेज आवेगा ! "होली" के दिन ऐसा आदमी के यहाँ जन पड़ता है जिसके घर आप दुबारा नही जायेंगे ! क्योंकि सब लोग तो आप जैसा अभागा तो होता नही की "गाँव" नही जाए !
दिल्ली मे रु ३५/- वाला कुरता खोजने मे रु २०० का पेट्रोल खर्चा हो जाएगा या फ़िर बीबी आपका पिछला साल वाला कुरता खोजने मे आपको २-४ थो श्लोक सुना देगी ! वैसे मेरे कई ऐसे मित्र हैं - बीबी श्लोक सुने बिना दिन का जतरा नही बनता है ! बढ़िया है - जतरा बनाईये ! कुरता - पैजामा मिल जाएगा त "नारा " नही मिलेगा :( अब , क्या कीजियेगा ? रुकिए - सलवार से ही निकाल लीजिए ;)
जब शाम को बीबी हुर्केचेगी त किसी दोस्त के यहाँ का प्लान बनायीयेगा ! तब तक किसी दोस्त का फोन आ जाएगा की वही - आपके घर आ रहा है ! भाई - वह भी तो शादी शुदा है !
क्रमशः
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Wednesday, March 5, 2008

ठाकरे बाबा सही कह रहे हैं !

लालू कहते हैं की बुढापा का लक्षण है ! नीतिश जी नालंदा स्टाइल मे मे मी आ रहे हैं ! पासवान को बुझा ही नही रहा है की क्या कहें ? भाई , आप तीनो ने "मंडल" के सहारे जो वातावरण तैयार किया है बिहार मे उसका कोई जबाब नही है ! एक बात बताएं ? - आप तीनो १८ साल से बिहार मे कर क्या रहे हैं ? लालू - समान्त्वादों के ख़िलाफ़ मोर्चा खोला - नीतिश जी लालू के ख़िलाफ़ और पासवान जी दोनों के ख़िलाफ़ , बढ़िया है ! लगे रहिये ! लालू बिहार के लिए कुछ नही किए - आशा भी नही था ! पर , नीतिश बाबु - आप त जात पात से ऊपर उठ कर चुन कर आए थे - फ़िर ये अचानक जाती प्रेम कैसे जाग गया ? खैर , यह आपका दोष नही है - यह तो बिहार का संस्कार है ! हम त आपसे भी ज्यादा जात पात करते ! "बिहारी" जो ठहरे !
गरीब लोग कहाँ जाएगा ? भावनात्मक बहाव मे लालू-नीतिश -पासवान को वोट तो दे दिया और आज ठाकरे बाप बेटा मजा चखा रहा है ! काहे नही नीतिश-लालू-पासवान को कहते हो की हर जिला मे १० थो फैक्ट्री खोल दे ! सच्चाई यह है की नीतिश ख़ुद विकास नही चाहते हैं !
आप बिहारी हैं त तनी आप अपना गाओं - मोहल्ला - परिवार मे नज़र डालिए - आपको बिहार का कोई ऐसा परिवार नही मिलेगा जिसका कोई न कोई सदस्य बिहार से बाहर कमाने नही गया हो ? इसके लिए कौन जिम्मेदार है ? बिहार का बंटवारा कौन करवाया ? क्या कसूर है हमारा ? अब त ख़ुद लालू का परिवार बिहार मे नही रहना चाहता है ! एक आम बिहारी भी बिहार नही जन चाहता है ! लालू राज मे सब से कम पलायन यादव लोग का था ठीक ऐसा ही नीतिश राज मे है - जब तक यह सब चलेगा - बिहार कैसे सुधरेगा ?
बिहार का जितना मीडिया वाला है - सब का सब एक नंबर का दलाल ! सब को पता है बिहार मे खुलेआम फेक एन्कोउतर हो रहा है - पैसा मे इतना दम है की सब चुप है !
सवाल बहुत है !
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Monday, March 3, 2008

" कब अईबू अंगनवा हमार ": भोजपुरी सिनेमा समीक्षा


अनजान शहर मे अनजान चेहरों के बीच अपनी सभ्यता और संसकृति की झलक देखने को ही मिल जाए - यही बहुत है ! काफी अरसा हो गया था - भोजपुरी सिनेमा देखे हुए ! श्री कवि कुमार द्वारा निर्मित " कब अईबू अंगनवा हमार " को नॉएडा के मल्टीप्लेक्स " P V R - Spice " ने दिखाने क निर्णय लिया तो यह भोजपुरी सिनेमा के इतिहास क पळ था क्योंकि यह अपने आप मे पहली भोजपुरी सिनेमा है जो किसी मल्टीप्लेक्स मे "चल " रही है !

कल यह सिनेमा देखने kaa मौका मिला ! श्री कवि कुमार बिल्कुल ही साफ सुथरी फ़िल्म लेकर आए हैं ! अभिनेता और गायक श्री मनोज तिवारी ne काफी स्वाभाविक अभिनय की जितनी तारीफ की जाए कम है ! विनीत कुमार भी दमदार नज़र आए ! सिनेमा के कार्यकारी निर्माता श्री अंशुमन मिश्रा ने बताया की इस तरह की साफ सुथरी बड़े बजट की भोजपुरी सिनेमा बनाना आसान काम नही हैं - मुझे भी ऐसा ही लगा ! इस सिनेमा मे पहली बार DABING के बिना काम चलाया गया है = जिसे टेक्नीकल भाषा मे "सिंक साउंड " कहते हैं - ऐसा प्रयोग सिर्फ़ लागान के कुछ दृश्यों के लिए किया गया था ! छरहरी बदन की मालकिन और मेरी हमउम्र श्वेता तिवारी ने काफी प्रभावित किया है !

सिनेमा अपने पहले मध्यांतर मे आपको अपने गाओं की याद से आखों को नम करेगा और दूसरे मध्यांतर मे एक प्रवासी "पूर्वांचल" के दर्द के कारन आपकी आँखें नम होंगी ! हाँ , सिनेमा एक स्वाभाविक कहानी और स्वाभाविक दमदार अभिनय पर केंद्रित है जिसके कारन थोडा लंबा हो गया जो निर्देशक की कमजोरी को दिखता है !
कुल मिला कर - यह सिनेमा आप हम सभी अपने परिवार के साथ बैठ कर देख ही नही सकते बल्कि इसकी खूबसूरत गानों क आनंद भी उठा सकते हैं !
निर्माता श्री कवी कुमार बिहार प्रान्त के सीतामढी निवासी हैं और सिनेमा की शूटिंग उनके गाओं मे ही हुयी है ! श्री कुमार एक बेहतरीन वक्ता भी हैं और पूर्वांचल और अर्थशास्त्र के मुद्दों पर खबरिया चैनल पर नज़र आते रहते हैं !
सभी पैसा खाने के लिए नही होता है - कुछ दिखाने के लिए भी होता है ! "तिरहुत" वासी सम्प्पन लोग समाज के प्रती अपनी जिम्मेदारियों को अच्छी तरह समझते हैं ! सिनेमा निर्माता श्री कवि कुमार अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों क निर्वाह करते नज़र आए और सिनेमा के मध्यम से अपनी मिटटी क क़र्ज़ भी कुछ हद तक उतरा है - जो एक सराहनीय कदम है

Wednesday, February 20, 2008

बिहार चलो !!!

बिहार चलो ! ४ लाठी राज ठाकरे दिया नही की बिलबिलाने लगे की "बिहार चलो" ! कमज़ोर जीन ! मजदूर ! बिहारी को कितना भी पढ़ा लिखा दीजिए - २-४ करोड़ पाकिट मे दे दीजिए ! मानसिक स्तर पर यह मजदूर ही रहते हैं ! समाजवाद इनके खून मे बसा है ! लोहिया , जे प्रकाश नारायण और कर्पूरी ठाकुर की मानसिकता से बिल्कुल जकडे हुए हैं ! जात पात खून के अंतिम लेअर तक है ! रहेगा अमेरिका मे और सोचेगा जहानाबाद की तरह !
हम बचपन मे देखा करते थे की - लोग अमेरिका या ब्रिटेन पढ़ने के लिए जाते थे - कमाने के लिए नही ! समाज का कमज़ोर तबका कलकत्ता , दिल्ली या मुम्बई कमाने के लिए जाता था ! जिसका पेट बिहार मे नही भरता था वह "बेचारा" बन के परिवार से हजारों मील दूर "पेट भरुआ" बन के जीवन चलता था ! क्या पढ़ा लिखा और क्या अनपढ़ सब के सब मेरे तराजू मे एक ही थे ! कोई जनरल bogee मे तो कोई वातानुकूलित मे ! सफर के ट्रेन और मंजिल तो एक ही थी और साथ ही साथ मकसद भी एक ही ! फिर कैसा फरक ? एक जमाना वह भी था जब डाक्टर लोग ब्रिटेन से पढ़ लिख कर सीधे पटना रुकता था या दरभंगा - मुजफ्फरपुर ! अब यह वर्ग दिल्ली मे निवेश करता है !
इन सब के लिए समाज जिम्मेवार है ! मैंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद - पटना मे कंप्यूटर का व्यापार शुरू किया ! साले ससुराल वाले और इर्द गिर्द के समाज वाले जीना मुहाल कर दिए थे ! हुर्केच हुर्केच के मेरे रातों का नींद गायब कर दिए थे ! फलाना का बेटा - मुम्बई मे फलाना कम्पनी मे है - चिलाना का बेटा अमेरिका जा रहा है ! धेकाना का दामाद दिल्ली मे फ्लैट ले लिया है ! अरे मेरे बाप - यह सभी " पेट भरुआ" हैं ! मुझे इस झमेला मे नही डालो ! मुझे "पटना " पसंद है और मुझे "पटना" मे ही रहना है ! मुझे "बड़ा" नही बनाना है ! मुझे द्वितीये स्तर का नागरीक बन के पेट नही भरना है ! पब्लिक कहाँ maanane वाली थी !
बिहारी लोग समाजवाद और सामंतवाद दोनों को आदर्श मानते हैं ! मैंने कई कम्पनी के बड़े अधिकारीओं को डिप्रेशन मे देखा है ! दिल मे सामंतवाद और जुबान मे समाजवाद ! बढ़िया नौकरी - बढ़िया पैसा और पातर पातर अंग्रेज़ी बोलने वाली बीबी फिर भी दिल उदास है - क्योंकि कोई "pahchaan" नही है ! अब मुम्बई और दिल्ली मे आप ५० लाख की गाडी पर चढें आपको कोई सलाम कयों करेगा ? दिल मे तो सामंतवाद है ! बचपन मे दादा - दादी के मुह से जिला जवार के बड़े बड़े सामंती लोगों की जीवन शैली को देखा और सुना है !
दिल्ली के एक बहुत बड़े बिहारी का फोन आया - बेटी का बियाह है - "अपने" लोग आते तो अच्छा रहता ! शादी बियाह के मौके पर लोक गीत का आनंद ही कुछ और है ! अब भाई जी दिल्ली आकर करोड़पति तो बन गए लेकिन अपने लोग "बिहार" मे ही छुट गए - मामा - फूफा की जगह "दिल्ली" के dalalon ने ले ली है !
खैर , जब सब बिहारी "बिहार" चला जाएगा तो ई नीतिश और लालू का क्या होगा ?
रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Friday, February 15, 2008

नीतिश कुमार की बकरी !!

लालू जी को अपनी 'भैंस' के कारण नाम और बदनाम दोनों मिला ! अब भला नीतिश जी क्यों पीछे रहे ? उन्होंने एक 'बकरी' पाल रखा है ! जहाँ कहीं भी जाते हैं - अपनी ' बकरी' को साथ मे ले जाते हैं ! 'बकरी' की शिक्षा - दीक्षा काफी अच्छे स्कूल कॉलेज मे हुई है ! लेकिन यह बकरी जब "नालंदा' वाली मगही मे " मेमीआती" तो नीतिश जी का दिल बाग़ बाग़ हो जाता है ! "बिहार" नालंदा है और "नालंदा" ही बिहार है ! मुझे कई पत्रकार बोले की - हर जनता दरबार मे इस बकरी को बगल मे बिठा - पूरे राज्य को यह संदेश देना चाहते हैं की - अब बिहार मे बकरीवाद ही चलेगा ! "बकरीवाद" के चलते - राज्य के मुठ्ठी भर 'शेर' परेशान हैं ! ( गौर तलब है - नीतिश जी बिहार के "सवर्ण" समुदाय को "मुठ्ठी भर लोग " कह कर बुलाते हैं )
नीतिश के कुछ चमचों बेलचों सलाह दी की किसी बकरे को "शेर" की शक्ल दे दी जाए ! नीतिश जी के ख़ास 'बकरी' के चहेते 'बकरे' को रंगा - पोता गया - 'शेर' की शक्ल दी गयी और राजधानी की सुरक्षा मे लगा दिया गया ! अब यह नादान बकरा उछल कूद कर हर रोज "मुठ्ठी भर " लोगों को चुन चुन कर मारता है ! मारना भी चाहिए - जब तक मुठ्ठी भर लोग ख़त्म नही होंगे - बिहार मे "बकरीवाद " कैसे आएगा ?

दिल्ली के समीप "नॉएडा" मे करोड़ों की लागत से नीतिश की बकरी का महल तैयार हो रहा है ! कई और बकरी हैं जिनके पैसे इंदिरापुरम और नॉएडा के बड़े बड़े प्रोजेक्ट मे लगे है ! भाई , यह सब नीतिश राज मे शाकाहारी भोजन से बचाए हुए पैसे हैं !

नीतिश जी बहुत इमानदार हैं ! अब्दुल कलाम के नालंदा दौरे मे "सिंगुर" वाली समस्या हो गयी ! ख़बर को कम महत्वपूर्ण और दबाने के मे कई 'पत्रकार' भाई मालामाल हो गए ! "नालंदा" की उपजाऊ जमीन को जबरदस्ती लिया गया ! कीमत भी बाज़ार से कई गुना कम ! जाती गत आधार पर "गाओं" का "गाओं" साफ किया गया !

नीतिश जी मुस्कुराते हैं ! मंद मंद ! और अपनी बकरी को शाकाहारी घास फूस देते हैं !

लिखने को बहुत कुछ है - धीरे धीरे - ! चलिए तबतक हम कुछ मांसाहारी भोजन कर आयें !


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Monday, February 11, 2008

Tuesday, February 5, 2008

ठीक हो रहा है !

टीवी पर बिहारियों को पीटाते देख थोडा सुकून हुआ ! लेकिन थोडा और हंगामा होना चाहिऐ था ! जम के ! दहशत का माहौल भी खड़ा होना चाहिऐ ! "अपना घर" बर्बाद हो रहा है और चले हैं दूसरों के घर को सजाने के लिए ! "दूसरा" हमेशा से ही दूसरा ही होता है !
ऐसी प्रतिक्रिया स्वाभाविक है ! उदाहरण के तौर पर - हम लोग करीब १०० साल से मुजफ्फरपुर शहर मे बसे हैं ! दादा-परदादा की जमींदारी थी ! घर - परिवार के लोग मुजफ्फरपुर से ही पढे लिखे हैं ! लेकिन आज तक "तिरहुत" वाले महीन लोग हमलोगों को अपना नही सके ! आज भी हम सभी "छपराहिया " ( छपरा जिला का रहने वाला ) ही कहलाते हैं ! हम भी अडे हैं - अपनी भाषा "भोजपुरी" ही बोलते हैं !
अगर आप - गाँव के रहने वाले हैं तो देखा ही होगा की किस कदर बाहर से आ कर बसे हुए लोगों को तंग किया जाता है ! खासकर " तड़का" वाले केस मे ! जहाँ " दामाद" को अपने ससुराल मे सम्पति मिलता है ! लोग अपने भागिना - नाती को अपना लेते हैं लेकिन "दामाद" को हमेशा से ही पराया समझा जाता है !
बहुत साल पहले - मैंने अपने गृह जिला "गोपालगंज" मे एक स्कूल मालिक के यहाँ गया ! वह केरल राज्य के रहने वाले थे ! उनका स्कूल काफी पैसा कम रह था ! पर स्कूल मालिक का जीवन शैली काफी निम्न था ! मैंने मजाक मजाक मे ही कुछ पूछ दिया - उन्होने जबाब दिया की - वह केरल मे एक माकन बना रहे हैं और फिर अपने माकन का फोटो दिखाया - फोटो देख कर मुझे ऐसा लगा की वह केरल मे कई करोड़ का मकान बना रहे हैं !
"बाबा" आये हुए थे - कह रहे थे की "खेत" मे काम करने को नही मिलता है - सभी के सभी "पंजाब" "दिल्ली" और गुजरात" चले जाते हैं ! पटना के एक तकनिकी कॉलेज के मालिक ने कहा - कोई पढ़ने वाला नही मिलाता है ! बिहार सरकार के एक उच्च पधाधिकारी से मेरी बात हो रही थी - बता रहे थे की पटना के सड़क पर आपको एक भी युवा नही मिलेगा ! या तो २० बरस से कम उमर वाले या फिर ४५ से ज्यादा वाले !
चलो "बिहारियों" - घर चलो ! जब हम सभी दूसरों का घर स्वर्ग बना सकते हैं तो फिर अपना क्यों नही ?


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Monday, February 4, 2008

राज ठाकरे को "मीडिया" की मदद

आज जो भी बवाल मुम्बई मे हो रहा है - उसमे राज ठाकरे से ज्यादा मीडिया की भूमिका है ! "दलाली" की हद कर दी आप सभी ने ! दरअसल इलेक्ट्रोनिक मीडिया मे अत्यंत ही घटिया और कमज़ोर मानसिकता वाले लोगों का जमावडा हो गया है ! ऊपर से नेताओं के लगे पैसा का दबाब - कचरा को पेश किया जा रहा है ! उलुल - जलूल खबरों को महताव्पूर्ण बना देना और पूरे देश को उसमे झोंक देना - यह गलत ही नही अपराध है !
राज ठाकरे का बयां इतना महताव्पूर्ण नही था जिसको इस कदर दिखाया जाये ! वह बिल्कुल ही एक छोटी सभा मे कुछ उलुल जुलूल बक रह था ! मीडिया ने इतना महाताव्पूर्ण बना दिया की - टीवी पर दिखने के चक्कर मे बेचारे "पूर्वांचल" के लोग अब पीट रहे हैं !
देश को पूरी तरह "दलालों" के हाथ मे हम सभी ने दे दिया है ! आज तक यह दलाल समाज की आबरू को बेच रहे थे - अब यह खुद की आबरू की दाम लगायेंगे ! "पैसा-पैसा" के इस खेल मे हम सभी इतने व्यस्त हो चुके हैं की हमे यह नही पता चल रहा है की हम आने वाले पीढी के लिए कैसा समाज बना रहे हैं !
सैफ और करीना की खबर - देश की प्रगति की खबर से ज्यादा "important" बन जाती है !
आप सभी से मेरा निवेदन है की आपको जहाँ भी इस तरह के " इलेक्ट्रोनिक जर्नलिस्ट " मिले , मेरे तरफ से इनको समझायें ! विनम्र निवेदन करें ! अगर फिर भी नही सुधारें तो " चार" लात दीजिए ! फिर देखिए - कैसे यह अपनी आबरू को बेचेंगे !
मुझे जया बच्चन का बयां ज्यादा पसंद आया की - राज ठाकरे कौन है ? बात ख़त्म !
खैर , राज ठाकरे कौन हैं यह सबको पता है ! इनके असली पिता कौन हैं यह भी सबको पता है !



रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Tuesday, January 22, 2008

पैसा - पैसा , लहू लुहान बाज़ार

लहू लुहान बाज़ार मे मेरे जैसे कई निवेशक शोक मुद्रा मे होंगे ! होना भी चाहिऐ ! गाढी कमाई है ! कोई यूं ही क्यों उसको उड़ते हुए कैसे देख सकता है ! बाबुजी बहुत समझाए थे - "फिक्सड डेपोजीत" कर दो - "सोना" खरीद लो - गाँव मे २-४ कत्था ज़मीन ले लो ! मैं कहाँ मनाने वाला था ! मुझे तो हडबडी थी रातों रात - अमीर बनने की ! आस - पास कई लोगों को देखा हूँ ! मंद बुद्धि वाले भी लाखों और कड़ोरों की बात करते हैं ! मुझे सब से आसान रास्ता चाहिऐ था - जहाँ से मैं कई गुना पैसा देखते देखते कमा सकूं !
लालच बहुत बुरी बला है ! बचपन मे सिखा था ! जवानी मे पाया की - आदमी स्वभाव से ही लालची होताहै ! अब इसमे मेरा क्या दोष है ? धरती पर रहना है तो - पैसा तो चाहिऐ ही , न ! अत्यधिक लालच भी एक अपराध है ! लालच मे आदमी अपने परिवार , बाल बच्चों , समाज के साथ गुनाह करता है ! सिर्फ बन्दूख से गोली चलना ही अपराध की श्रेणी मे नही आता है !

एक डाकू से रामायण के रचयिता बनते हुए सब ने "बाल्मीकि" के बारे मे सुना है ! अंगुलिमाल डाकू के बारे मे सुना है ! देश - प्रदेश मे कई ऐसे "लालची" पैदा हुए जिन्होंने आँख खुलने के बाद अपनी सारी सम्पति समाज को दे दी !

यूं मेरा सब कुछ डूबा नही है ! पर तात्क्षानिक लाभ की लोभ ने मुझे बेचैन कर दिया है ! सालाना १२ % से ज्यादा की आशा करना बेवकूफी है ! बेहतर हो हम सभी चक्रवर्धी व्याज की भाषा सीखें ! या फिर धैर्य रखना सीखें ! हम आम आदमी सिर्फ और सिर्फ अपने लिए ही नही कमाते हैं ! मजबूत नींव देना भी हमारा मकसद होना चाहिऐ ! अपने जीवन काल मे - हम सभी कम से कम ५ पीढी को तो देख ही लेते हैं ! अपने दादा जी से लेकर अपने पोता-नाती तक ! जो हम अपने दादा जी - पिता जी से सिखते हैं वह हम खुद पर प्रयोग करते हैं और खुद के प्रोयोग से सीखे हुए संस्कार को अपने आने वाली पीढी को देने की कोशिश करते हैं !

धन संचय भी एक कला और विज्ञान है ! सभी अंडो को एक ही झोला मे ना रखें ! जोखिम अपनी अवकात और उम्र को ध्यान मे रख कर ही लें ! कुछ धन खाने के लिए और कुछ धन दिखाने कभी लिए भी !

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

Saturday, January 5, 2008

सारी प्रगति के पीछे है शिक्षा : अभ्यानंद

श्री अभ्यानंद भारतीये पुलिस सेवा के एक वरिष्ठ अधिकारी है और अपने  गरीब बच्चों को भारतीये प्रद्योगिकी संस्थान तक पहुँचने के लिए "सुपर-३०" की स्थापना की! आज दैनिक जागरण पटना संस्करण ने काफी प्रमुखता से इनके विचार एक लेख के रुप मे प्रकाशित किया है ! आशा है आप सभी भी इसे पढ़ कर लाभंवाती होंगे :-




प्राणी का जन्म हुआ। प्राणी को एक व्यवस्था के रूप में देखा जाय तो जन्म के साथ ही इस व्यवस्था का सामाजिक, आर्थिक, भौतिक, मनोवैज्ञानिक, राजनैतिक के साथ-साथ अन्य आयामों के अन्तर्गत ही, उसके समस्त पर्यावरण से विनिमय प्रारंभ हो जाता है। विनिमय अगर परस्पर लाभकारी हुआ तो व्यवस्था एवं पर्यावरण दोनों के लिए सुखदायी है, अन्यथा अन्तत: यह अहितकर विनियम कष्टों का सबब बनकर रह जाता है। प्राणी के कई कष्ट ऐसे हैं जो उनके शरीर में जन्म के साथ ही उनके जिन्स में निहित रहते हैं। इन कष्टों का जीवन यात्रा के दौरान शनै-शनै विस्तार होता है जिससे कि न केवल वह प्राणी बल्कि उसका पर्यावरण भी उनके कष्टों से आहत हो जाता है। इस प्रकार के कष्ट जो प्राणी के जिन्स में ही निहित हो उसके निराकरण के लिए मानव-जाति नैनो टेक्नोलौजी के माध्यम से सूत्र ढूंढने का प्रयास कर अगर इसमें सफलता मिली तो अहितकर विनिमय, जिसकी चर्चा ऊपर की गई है, उसके आयाम काफी हद तक घट जायेंगे। कुछ ऐसे कष्ट भी हैं जो जन्म के समय नहीं होते परन्तु जीवन यात्रा के दौरान पर्यावरण और प्राणी के अनेक प्रकार के अहितकर विनिमय से उनकी उत्पत्ति हो जाती है। ये कष्ट साधारणतया शारीरिक एवं मानसिक हैं और इनके निवारण के लिये इस क्षेत्र में काम कर रहे वैज्ञानिकों ने स्टेम सेल टेक्नोलौजी का सहारा लेकर कुछ हद तक सफलता पा ली है। समाज अब आशान्वित है कि ऐसे कष्टों का जब भी जीवन के दौरान उभार होगा तो इस टेक्नोलौजी की सहायता से जन्म के दौरान भंडारण किये गये उनके स्टेम सेल की मदद से उसकी चिकित्सा भी हो पायेगी। ये चर्चा तो शारीरिक एवं मानसिक कष्टों की है जिससे कि प्राणी एवं उसका पर्यावरण काफी त्रस्त रहता है। कई ऐसी समस्यायें हैं जिनका जन्म अशिक्षा के माध्यम से हो जाता है। शिक्षा ही प्राणी एवं पर्यावरण के विनिमय को दशा एवं दिशा देती है। जब शिक्षा की बात चलती है तो सामान्यत: किताबें, स्कूल तथा शिक्षक की कल्पना अनायास होने लगती है। इस अवधारणा को अगर विस्तृत रूप से देखा जाय तो प्राणी के पर्यावरण में जो भी वस्तु निर्जीव अथवा सजीव हो जिसके साथ उसका किसी भी प्रकार का विनिमय का सीधा संबंध उसकी शिक्षा से होता है। यह भी सोचना गलत होगा कि इस पूरी प्रक्रिया में मात्र प्राणी ही शिक्षा ग्रहण कर रहा है। इस व्यवस्था को अगर गहराई से देखा जाय तो न केवल प्राणी बल्कि उसका पर्यावरण भी सीखता है। परस्पर सीखने की प्रक्रिया को ही ऊपर की चर्चा में प्राणी एवं पर्यावरण के विनिमय के रूप में अंकित की गई है। मानवजाति की सम्पूर्ण यात्रा को देखने का यह भी एक दृष्टिकोण है। इस रूप से अगर यात्रा का अवलोकन किया जाय तो प्राणी एवं पर्यावरण में परस्पर सीखने की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित बनाना ही शिक्षण माना जायेगा। कुछ विनिमय अहितकर होते हैं, जिन्हें शिक्षा के माध्यम से न्यूनीकृत किया जाता है। उसी प्रकार कुछ विनिमय अच्छे एवं श्रेयस्कर होते हैं जिन्हें शिक्षा के जरिये विस्तारित किया जाता है। शिक्षा ही ऐसी प्रक्रिया है, जिस विनिमय की बात हो रही है उसके सभी आयामों की जड़ में है। समस्या भौतिक हो या मानसिक, आर्थिक, सामाजिक, सबों के निदान के लिए शिक्षा का ही सहारा लेना पड़ता है। जितनी भी प्रगति, चाहे जिस क्षेत्र में हुई तो उन सबों के पीछे शिक्षा का अत्यन्त महत्वपूर्ण योगदान है। जिन क्षेत्रों में ऐसा प्रतीत हो कि समुचित प्रगति नहीं हुई है तो उनके कारणों में प्रमुख स्थान अशिक्षा का पाया जाता है। इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि मानवजाति और उसके पर्यावरण विकास के इतिहास में शिक्षा एक सबल धुरी की तरह उभरी है। प्रश्न यह उठता है कि शिक्षा और सुशिक्षा में अन्तर क्या है। मेरी अपनी धारणा है कि जब प्राणी अथवा उसके पर्यावरण में से किसी एक के द्वारा विनिमय की ऐसी प्रक्रियाओं को जन्म दिया जाय जिससे किसी एक को अल्पकालिक लाभ हो, तो वह शिक्षा सुशिक्षा नहीं मानी जायेगी। जब भी प्रक्रिया ऐसी बनती है जिससे दोनों पक्षों को दीर्घकालिक लाभ हो तो उस विनिमय प्रक्रिया को सुशिक्षा की संज्ञा दी जा सकती है। सामान्यत: यह पाया गया है कि प्राणी एवं पर्यावरण, दोनों में यह होड़ लगी रहती है कि एक-दूसरे की शक्तियों का गलत प्रयोग कर अपने लिए लाभ उठाया जाय। जो ऐसा करते हैं वे शिक्षा का हवाला देकर इसे सही ठहराने का दावा भी करते हैं। चूंकि यह लाभ अल्पकालिक होता है, अत: लम्बे अंतराल में इससे लाभ कम और घाटा अधिक हो जाता है। इसके विपरीत अगर सुशिक्षा की बात की जाय तो यह पाया जायेगा कि समय के बड़े पैमाने पर ऐसी प्रक्रियाएं पारस्परिक रूप से हितकर साबित होती है। सुशिक्षा का एक यह भी उद्देश्य होना चाहिए कि समय के साथ वैसी शिक्षा जिससे परस्पर लाभ न हो उसका Oास हो। अध्यात्मिक रूप से अगर इस पूरे मामले को देखा जाय तो जब तक प्राणी अपने को पर्यावरण से भिन्न मानता है और पर्यावरण को एक ऐसे शक्ति-स्रोत के रूप में देखता है जिससे वह अपने हित का विस्तार कर सके, तब तक जिस सुशिक्षा की बात की जा रही है वह निरर्थक होगी। प्राणी एवं पर्यावरण के बीच जब सीमाएं टूट जाती हैं तभी सुशिक्षा की अवधारणा विस्तृत रूप से परिलक्षित होने लगती हैं। यह सही है कि जिस सीमा की बात की गई है उसके टूटने के पूर्व उसके आकार का बड़ा होना आवश्यक है। मेरा यह मानना है कि अगर प्राणी निरन्तर प्रयास करे तो वह अपने व्यक्तित्व के साथ-साथ इस सीमा के आकार को भी बड़ा बना सकता है। यह प्रयास निश्चित रूप से एक साधना है। साधना के दौरान यह आभास मिलता है कि प्राणी के अन्दर पर्यावरण का एक बड़ा अंग समाहित हो गया है। ऐसा होने से दोनों के बीच परस्पर विरोध के आयाम घटते हैं। इस स्तर से आगे आने पर ऐसी भी अनुभूति होती है कि एक ऊंचाई के पश्चात प्राणी सूक्ष्म रूप बन कर किसी बहुत बड़ी आकृति (पर्यावरण से भी बड़ी) का एक अंग बन गया और उसमें इस हद तक समाविष्ट हो गया कि दोनों में कोई अन्तर ही न हो। शायद यह वह दशा होती है जब जिन सीमाओं को मिटाने की बात कही जा रही है वह यथार्थ में मिट जाती है। सुशिक्षा की नियति ही है कि वह प्राणी एवं पर्यावरण के बीच विनिमय को ú तक पहुंचाये। हम आज तक ऐसे मुकाम पर हैं, जहां पूरी व्यवस्था कई प्रकार की समस्याओं से ग्रसित हो गई है और कभी-कभी मानव भविष्य बुरी तरह विध्वंसकारी अंधकार के रूप में दिख पड़ता है। असाध्य बीमारियां, विश्व के कुछ भागों में असह्य भूखमरी, कुछ अन्य भागों में अलगाववाद/आतंकवाद आदि ऐसी समस्याएं हैं जो निरन्तर उत्तर ढूंढ रही हैं। मानव प्रयासों के बावजूद इनका उत्तर पूर्णतया नहीं पाया गया है। इस तात्कालिक विफलता से कई बार इतनी हतासा पैदा होती है कि चारो तरफ निराशा एवं अंधकार दिखने लगता है। मनुष्य जिन निराकरणों की तलाश में है उन सब का आधार सुशिक्षा है। सुशिक्षा के यंत्र के रूप में टेक्नोलाजी उभर कर आयी है और इसके माध्यम से कुछ समस्याओं का निदान निश्चित रूप से मिला है। उदाहरणस्वरूप संवाद प्रेषण की तकनीकों में व्यापक विस्तार होने से पूरे विश्व में सभी प्रकार के संवाद का आदान-प्रदान हो रहा है। इससे ज्ञान/जानकारी सहज रूप से उपलब्ध हो जा रही है। विनिमय इतना पारदर्शी एवं सहज हो गया है कि समस्त विश्व इसका लाभ उठा पा रहा है। अगर इतिहास में झांके तो ज्ञान मुट्ठी भर लोगों के बीच सिमट कर रह जाता था। उसका लाभ अन्य उठा नहीं पाते थे। ये मुट्ठी भर लोग अर्जित ज्ञान को अपनी व्यक्तिगत धरोहर के रूप में रखते थे। ऐसी शिक्षा निरर्थक थी। आज विश्व भर में संवाद प्रेषण की तकनीक से सुशिक्षा का विकास हुआ और प्राणी तथा पर्यावरण में पारस्परिक लाभदायक विनिमय से कई समस्याओं का निदान हो पाया। ऐसे कई दृष्टान्त सामने आये हैं जब विभिन्न देशों में कार्यरत चिकित्सकों ने एक-दूसरे से इस तकनीक के माध्यम से संपर्क कर असाध्य बीमारियों का इलाज ढूंढा है। यह सुशिक्षा का ज्वलंत उदाहरण है, जहां एक व्यक्ति अपने ज्ञान को इस तरह विस्तारित करता है, जिससे कि पूरी मानवजाति को उसका लाभ मिल सके।जिन समस्याओं के संबंध में बातें की गई हैं उनका निदान अगर आने वाले कुछ दशकों में सुशिक्षा के माध्यम से नहीं हो पाया तो संभवत: यह समाज विध्वंस एवं अंधकार में प्रविष्ट हो जायेगा। इसके विपरीत अगर सुशिक्षा के माध्यम से तकनीकी निदान हो पाया तो यह व्यवस्था कई गुणा अधिक त्वरण से भविष्य की ओर बढ़ जायेगी। आज मानव जाति के लिए यह आवश्यक हो गया है कि वह न केवल सुशिक्षा की कामना एवं प्रार्थना करे बल्कि ऐसा कोई भी कर्म न करें जिससे कि उसके रास्ते में कोई विघ्न उत्पन्न हो।


रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा