Tuesday, June 17, 2008

एक अस्पताल दिल से। अभयानंद की पहल !



एक अस्पताल दिल से। न कोई सरकारी मदद और न कोई ग्रांट की व्यवस्था, एक शख्स बस दिल से लग गया तो वैसे लोग भी मिलते गये, कारवां बढ़ता गया। एक उपेक्षित अस्पताल इस तरह अब आधुनिक नर्सिग होम की शक्ल में आ चुका है। यहां अल्ट्रासाउंड व एक्स-रे से लेकर अत्याधुनिक ओटी भी है। इसे सुंदर और सुविधाजनक बनाने के लिए जवान अपने परिजनों की स्मृति में रिसेप्शन पर टीवी व एक्वागार्ड लगवा रहे हैं। राजधानी के समीप फुलवारीशरीफ में बीएमपी-5 के परिसर में स्थापित यह अस्पताल अब नए लुक में है। झाड़ू देने वाले बुजुर्ग गणेश राम ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके हाथों कभी किसी अस्पताल का उद्घाटन भी होगा, पर यह सच हुआ। माह भर के भीतर रिटायर होने वाले गणेश राम ने अस्पताल के नये स्वरूप का उद्घाटन किया है। उन्होंने सोमवार को बीएमपी कमांड हास्पिटल को एक दर्जन बटालियन के जवानों की सेवा में समर्पित कर दिया। 13 पुरुष और चार महिला बेड वाले इस अस्पताल की सज्जा अब एक नर्सिग होम से कम नहीं है। अब इसका अतीत जानिये- यह वही अस्पताल है, जहां देर शाम लोग फटकते तक नहीं थे। वहां कुत्ते बड़ी संख्या में दरवाजे के पास ही रहते थे। अस्पताल का भवन था और पटना में रहने को ख्वाहिशमंद चार चिकित्सक भी यहां पदस्थापित थे पर इलाज कम और फर्जी सर्टिफिकेट बनाने का काम ज्यादा होता था। सिपाहियों के लिए सिक लीव यानी बीमारी की छुट्टी के लिए सर्टिफिकेट बनाने के अलावा यहां कुछ खास नहीं होता था। बीएमपी के एडीजी अभयानंद ने बताया कि जब वह यहां पहुंचे तो तय किया कि जवानों के इलाज की कुछ व्यवस्था करें। इसी क्रम में उन्होंने बीएमपी जवानों के एसोसिएशन के पदाधिकारियों से बात की। वे अस्पताल के नाम पर तैयार हो गए। तय हो गया कि एक-एक बटालियन से पचास-पचास हजार रुपए तो चंदे के रूप में आएंगे। इस तरह से बारह बटालियन के हिसाब से छह लाख का इंतजाम पंद्रह दिनों के भीतर हो गया। इस पैसे को लेकर हमें अस्पताल शुरू करना था सो हम उन लोगों के पास गए जो अस्पताल के क्षेत्र में अनुभव रखते हैं। लोगों में सहयोग की भावना क्या है, इसका अंदाजा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि लायंस क्लब आफ फेमिना की महिलाएं इस बात को आगे आ गई कि वह अस्पताल के जर्जर हो चुके बेड को ठीक कराकर उनके लिए गद्दे वाले बिस्तर की व्यवस्था कर देंगी। इसके बाद लायंस क्लब आफ पटना फेवरिट को जब यह पता चला कि गैर सरकारी सहयोग से अस्पताल बनाया जा रहा है, तो उन्होंने अपनी ओर से अल्ट्रासाउंड की व्यवस्था कर दी। इसके बाद रुबन मेमोरियल अस्पताल ने बीएमपी कमांड अस्पताल को एक्स-रे मशीन गिफ्ट कर दी। इसके बाद स्टेट बैंक के स्थानीय मुख्यालय के अधिकारी आगे आ गए। दरअसल बीएमपी के जवानों को वेतन स्टेट बैंक से ही मिलता है। स्टेट बैंक ने अपने पैसे से अस्पताल के ओटी को नया शक्ल दे दिया। इस तरह सहयोग का कारवां बढ़ता गया। एक उपेक्षित अस्पताल अत्याधुनिक उपकरणों और वातानुकूलित ओटी से लैस हो गया। एडीजी ने बताया कि अपने चंदे के पैसे से हमलोगों ने अस्पताल के पैथालाजी विभाग के लिए उपकरण व फ्रिज खरीद लिए। अस्पताल नये रूप में शुरू हो गया। यहां बाजार से आधी से भी कम दर पर सिपाहियों को पैथालाजिकल जांच की सुविधा होगी। पूरी तरह से मोर्बोनाइट फर्श और ग्रेनाइट के खंभे वाले इस साफ-सुथरे हास्पिटल में अब सिर्फ एंबुलेंस की कमी है। बीएमपी के पास चार बटालियनों में एंबुलेंस हैं। एक-एक दिन के लिए उसे यहां लाने की योजना पर काम हो रहा है। अस्पताल में अपनी दवाई की दुकान भी हो, इसकी व्यवस्था भी कर ली गई। सरकार से लाइसेंस लेकर अपनी आउटलेट भी शुरू कर दी गई है। अभयानंद के मुताबिक अस्पताल के संचालन के लिए जवानों का एक ट्रस्ट बना दिया जाएगा और वही ट्रस्ट इस अस्पताल को चलाएगा। मामूली शुल्क पर इलाज और जांच की व्यवस्था रहेगी। हर साल ट्रस्ट का चुनाव होगा। अस्पताल को लेकर जवानों में इतना उत्साह है कि वे अपने परिजनों की स्मृति में रिसेप्शन पर टीवी व एक्वेरियम आदि लगवा रहे हैं। बाहर के विशेषज्ञ डाक्टरों की पेड-सर्विस भी शुरू किए जाने की योजना है।

रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

5 comments:

Sanjay Sharma said...

अस्पताल में कार्यरत सफाई कर्मी जो अवकाश प्राप्ति के कागार पर खड़े हैं ,उनसे अस्पताल के नए स्वरूप का उदघाटन करवाना कई संदेश देता है .जब कभी सशक्त ,सबल इमानदार लोग आगे आते हैं खूबसूरत बदलाव देखने को मिलता है .सुपर ३० के द्वारा अपने सामाजिक,और शैक्षणिक योगदान से अल्पसंख्यकों ,गरीब लाचार माँ बाप के आंखों में ज़बरदस्ती न केवल सपने ठेला है ,बल्कि साकार किया है . साथ ही सिद्ध कर दिया है कि सामजिक बदलाव आरक्षण के वगैर भी सम्भव है .केन्द्र तथा राज्य की सरकार को टियुशन पढ़नी चाहिए "अभयानंद जी से .
अभयानंद जी को सलाम के साथ ढेर सारी शुभकामनाएँ, ऐसी खबरें टी.वी. अखबार में थोड़े न आती है .पढ़ने के लिए मुखिया जी को धन्यवाद .

Sarvesh said...

अभयानन्द जैसे बहुमुखी प्रतिभा के वयक्ति जहां भी रहेगा वहां असम्भव को सम्भव कर के दिखाते रहेन्गे. मुझे उम्मिद है कि म्रुतप्रयाय हो चुके बि एम पी मे एक नइ जान फ़ुंक देन्गे. सैप और स्पीडी ट्रायल जैसे inovative concepts लाकर बिहार मे कानून वयवस्था को एक नया अयाम दिया उन्होने. रास्ट्रपती शाशन काल मे हुए चुनाव मे निस्पक्ष चुनाव कराने मे के जे राव के सहयोग को कौन भुला सकता है. ऊस चुनाव मे के जे राव को मालुम था कि पुलिस महकमे का ये होनहार व्यक्ति हि सबसे ज्यादा विश्वाशी है. पिछले शाशन काल मे उनका शन्टिन्ग पोष्ट का नतिजा था सुपर ३० जैसे विश्वविख्यात सन्स्था जो समाज के निचले तबके के बच्चो को आइ आइ टी तक पहुंचा बाकि के आखों मे भी सपना जगा दिये.
अब ये बि एम पी का वनवास भी जरुर कुछ नया inovation समाज को दिखायेगा, अभयानन्द जी के द्वारा.
सच हि कहा गया है "आप प्रतिभा को बहुत देर तक दबा कर नहिं रख सकते".

Manoj said...

एक कहावत काफ़ी दिनों से सुनता आया हूँ की कुछ व्यक्ति यदि मिट्टी भी छु लें तो वो सोना बन जाता है. अभयानंद सर ऐसी ही एक हस्ती हैं. मुझे तो लगता है की यदि वो रेगिस्तान में भी चले जाएँ तो कुछ ही दिनों में वंहा भी फूल खिल जायेंगे.
मनोज

अरुण said...

बहुत अच्छा काम और आपने मिलवाया ऐसे लोगो से आप भी बधाई की पात्र है

satyendra... said...

बहुत बेहतरीन कोशिश। ऐसे ही लोगों से समाज बनता है, समाज को नई दिशा मिलती है।
सत्येन्द्र