Thursday, February 9, 2017

धरा , प्रकृति और वसंत की आहट - एक संवाद

धरा - सखी , ये किसकी आहट है ? 
प्रकृति - ये वसंत की आहट लगती है ..
धरा - कौन वसंत ? हेमंत का भाई ऋतुराज वसंत ? 
प्रकृती - हाँ , वही तुम्हारा ऋतुराज वसंत ...:)) 
धरा - और ये शिशिर ? 
प्रकृति - वो अब जाने वाला है ...
धरा - सुनो , मैं कैसी दिख रही हूँ ...
प्रकृति - बेहद ख़ूबसूरत ...
धरा - सच बोल रही हो ...न..
प्रकृति - मैंने कब झूठ बोला है ...
धरा - ऋतुराज के साथ और कौन कौन है ...
प्रकृति - कामदेव हैं ...
धरा - ओह ...फिर मुझे सजना होगा ...
प्रकृति - मैंने तुम्हारा शृंगार कर दिया है ...
धरा - वो कब और कैसे ...
प्रकृति - सरसों के लहलहाते खेतों से ..आम्र की मंजरिओं से ...
धरा - सुनो , फागुन भी आएगा ..न ...
प्रकृति - तुम बुलाओ और वो न आए ...:)) 
धरा - अबीर के संग आएगा ? 
प्रकृति - गुलाल के संग भी ...
धरा - सुनो ..मेरा और शृंगार कर दो ...
प्रकृति - सूरज की नज़र लग जाएगी ...
धरा - सुनो ..ये ऋतुराज वसंत कब तक रुकेंगे ? 
प्रकृति - कहो तो ...पूरे वर्ष रोक लूँ ...
धरा - नहीं ...नहीं...सच बताओ न ...
प्रकृति - चैत कृष्ण पक्ष तक तो रुकेंगे ही ...
धरा - कामदेव कहाँ हैं ? 
प्रकृति - तुम्हारे नृत्य का इंतज़ार कर रहे हैं ...
धरा - थोड़ा रुको ...कब है नृत्य...
प्रकृति - वसंत पंचमी को ...
धरा - सरस्वती पूजन के बाद ? 
प्रकृति - हां ...
धरा - सरस्वती कैसी हैं ? 
प्रकृति - इस बार बड़ी आँखों वाली ...
धरा - और उनका वीणा ? 
प्रकृति - उनके वीणा के धुन पर ही तुम्हारा नृत्य होगा ...
धरा - सुनो ...मेरा और शृंगार कर दो ...
प्रकृति - कर तो दिया ...
धरा - नहीं ...अभी घुँघरू नहीं मिले ...
प्रकृति - वो अंतिम शृंगार होता है ...
धरा - फिर अलता ही लगा दो ...
प्रकृति - सारे शृंगार हो चुके हैं ...
धरा - फिर नज़र क्यों नहीं आ रहा ...
प्रकृति - जब ऋतुराज आते हैं ...धरा को कुछ नज़र नहीं आता ...
धरा - कहीं मै ख्वाब में तो नहीं हूँ ...
प्रकृती - नहीं सखी ...हकीकत ...वो देखो तुम्हारा सवेरा ...
धरा - दूर से आता ...ये कैसा संगीत है ...
प्रकृती - कामदेव के संग वसंत है ...ढोल - बताशे के संग दुनिया है ...
धरा - मेरा बाजूबंद कहाँ है ...? 
प्रकृती - धरा को किस बाजूबंद की जरुरत ? 
धरा - नहीं ...मुझे सोलहों श्रृंगार करना है ..मेरी आरसी खोजो ..
प्रकृती - मुझपर विश्वास रखो - मैंने सारा श्रृंगार कर दिया है ...
धरा - नारी का मन ..कब श्रृंगार से भरा है ..
प्रकृती - चाँद से पूछ लो ...:))
धरा - सुनो ...ऋतुराज आयें तो तुम छुप जाना ...आँगन के पार चले जाना ...
प्रकृती - जैसे कामदेव में ऋतुराज समाये - वैसे ही तुम में मै समायी हूँ ...
धरा - नहीं ...तुम संग मुझे शर्म आएगी ...
प्रकृती - मुझ बिन ..तुम कुछ भी नहीं ...
धरा - सखी ..जिद नहीं करते ...
प्रकृती - मै तुम्हारी आत्मा हूँ ...आत्मा बगैर कैसा मिलन ..
धरा - फिर भी तुम छुप जाना ...मेरे लिए ...ऋतुराज वसंत के आगमन पर ....:))  
..................
~ RR / 09.02.2016 

2 comments:

Rahul Singh said...

वाह, ललित मनभावन।

Sarvesh said...

बहुत बढ़िया. समय के साथ लेखनी सुदृढ़ होती हुई. वसंत में प्रकृति की छटा का विवरण बहुत बढ़िया.