Sunday, July 29, 2007

सावन !

सावन आ गया ! कल पहला सोमवारी है ! बाबा को जल चढाना है ! "बोल बम" का नारा गूंज उठेगा ! पर सावन के झूले भी सजेंगे ! हम दिल्ली के प्रगति मैदान वाले झूले कि बात नही कर रह और ना ही क्रितिम रुप से बनाए हुये मुम्बई के "एस्सेल वर्ल्ड" कि ! मैं तो बात कर रह हूँ , मेरे गांव मे आम के पेड के नीचे लगे हुये झूले कि ! बादल को देख देख सभी झुला पर झुलेंगे ! मोहन भी होगा
सावन मे पीहर / नैहर से सवानिया भी जाता है ! कोई तो आएगा , बाबुल का संदेसा लाएगा ! बरस बीत गए , भैया से मिले हुये ! सावन मे ही तो राखी आएगा ! इस बार राखी मे भैया जरुर आएगा ! सफ़ेद कुरता मे सज धज के आएगा ! सावन के हर पल को इंतेज़ार करती हुई अपने पिया के आंगन मे झूले पर झूलती हुयी इस नयी नवेली दुल्हन को कौन समझाए "भैया इस बार भी नही आएगा "!
बरस बीत गए ! फ़ोन पर बस बहना कि आवाज सुनायी देती है ,भाभी कि चुडियों कि खन्खार सुने हुये कई महिने हो गए ! अब तो मुनिया भी स्कूल जाने लगी होगी , भैया बोले कि पम्प सेट ख़रीदा गया है ! माँ कह रही थी , भैया इस बार डाक बम्ब बन के कांवर लेकर जायेंगे , मेरे प्रमोशन के लिए ऊन्होने पिछले साल मन्नत रखी थी ! और सावन निकल आये !

ranJan rituraJ sinh , NOIDA

12 comments:

mukund said...

Kal ghar phone kiye bhore-2 bhor...Bhai sahab bole pita Ji Gaon gaye hain..Rajendra Yadav ko bulane aur sab log se milne julne.
Bole is bar rajendra yadav hi jayenge..sath main nahi u jayega to ego labour jo kam karta hai wahi jayega.Phir sam main Kiye to pita ji bat hui..bole deh samang se dikh rakhna,..dulhin ka dhyan dena...Rajendra yad hain tumko hum bole haan achhi tarah se yad hai ..bole Bhola ko 22 go upaya...ghar per phone karte rahna ..hamara hal samachar jante rahoge...I sal unka 6th SAL hai Deoghar jane ka...DAND DETE hue jate hain...pehle bhi jate the..Charo Sombari Paidal..pichhla 5 sal se dand dete hue jate hain ..30-35 din main pahuchte hain...Sab kuchh Khana Pina ka saman sath lekar...Sath wala Admi Khana banakar khilata hai..aur sab dekhbhal karta hai...Harek Sal Ek naya Admi jata hai...Kahta hai Ashok Da ke sath iihaiye bahana kuchh din ta rahbai...Sawan KA hamre ghar main Sabse Bara Importnace yahi hai....
sab log intzar karte hain..

mukund said...

Kal ghar phone kiye bhore-2 bhor...Bhai sahab bole pita Ji Gaon gaye hain..Rajendra Yadav ko bulane aur sab log se milne julne.
Bole is bar rajendra yadav hi jayenge..sath main nahi u jayega to ego labour jo kam karta hai wahi jayega.Phir sam main Kiye to pita ji bat hui..bole deh samang se dikh rakhna,..dulhin ka dhyan dena...Rajendra yad hain tumko hum bole haan achhi tarah se yad hai ..bole Bhola ko 22 go upaya...ghar per phone karte rahna ..hamara hal samachar jante rahoge...I sal unka 6th SAL hai Deoghar jane ka...DAND DETE hue jate hain...pehle bhi jate the..Charo Sombari Paidal..pichhla 5 sal se dand dete hue jate hain ..30-35 din main pahuchte hain...Sab kuchh Khana Pina ka saman sath lekar...Sath wala Admi Khana banakar khilata hai..aur sab dekhbhal karta hai...Harek Sal Ek naya Admi jata hai...Kahta hai Ashok Da ke sath iihaiye bahana kuchh din ta rahbai...Sawan KA hamre ghar main Sabse Bara Importnace yahi hai....
sab log intzar karte hain..

mukund said...

Kal ghar phone kiye bhore-2 bhor...Bhai sahab bole pita Ji Gaon gaye hain..Rajendra Yadav ko bulane aur sab log se milne julne.
Bole is bar rajendra yadav hi jayenge..sath main nahi u jayega to ego labour jo kam karta hai wahi jayega.Phir sam main Kiye to pita ji bat hui..bole deh samang se dikh rakhna,..dulhin ka dhyan dena...Rajendra yad hain tumko hum bole haan achhi tarah se yad hai ..bole Bhola ko 22 go upaya...ghar per phone karte rahna ..hamara hal samachar jante rahoge...I sal unka 6th SAL hai Deoghar jane ka...DAND DETE hue jate hain...pehle bhi jate the..Charo Sombari Paidal..pichhla 5 sal se dand dete hue jate hain ..30-35 din main pahuchte hain...Sab kuchh Khana Pina ka saman sath lekar...Sath wala Admi Khana banakar khilata hai..aur sab dekhbhal karta hai...Harek Sal Ek naya Admi jata hai...Kahta hai Ashok Da ke sath iihaiye bahana kuchh din ta rahbai...Sawan KA hamre ghar main Sabse Bara Importnace yahi hai....
sab log intzar karte hain..

aashish said...

wah mukhiya ji,apke sentence dil ko chune wale hote hai...sawan ki akhiri pankti parh kar kab aakho se aansoo aa gaye pata hi nahi chala..aise hi likhte rahiyega..bahut-2 dhanyavad ek bar phir...
Aashish

MUKHIYA JEE said...

AASHISH JEE ,

ees LEKH ko likhate waqt mujhe bhi aisa laga ki mai ro padunga aur aakhon se SAWAN nikal aaye ! LEKH thoda lamba tha jisako maine thoda chhota kiya !

aapaka
ranJan

Arbind Jha said...

bhaiya, bahut acha likhe hai... ghar mae ma hoe ya papa ji, chacha hoe ya chachi ji wo log kitnae bechien hote hai humlog koe le kar per hum log kiya kartae hai???? aise he kitnae saawan bit gaye wo log har baar sawan mae jaatae hai "BABA KAE NAGARIYA" ki mera beta ise baar kuch aisa karega ki hum log kae sar fark sae ucha hoe jaayenge.... aapkae likhe line nae hila kae rakh diya bhaiaya

pandit said...

rimjhim sawan ki pare re fuhar
man ka papeeha pukare baar-baar
abki sawan beet na jaye
aaja re piya meinn karun tera intzar..
rimjhim .....

Ajit Singh said...

रंजन तेरा २००७ जुलाई का सारा लेख पढ़ा....यारा "सावन" दिल को छु गया...३ बार पढ़ चूका हूँ दिल नहीं भरता.....आँखे भर आती है.....अपनी भी पढ़ाई class 5th तक गाव मई हुई थी सो बचपन याद आ गया....

Ajit Singh said...

रंजन तेरा २००७ जुलाई का सारा लेख पढ़ा....यारा "सावन" दिल को छु गया...३ बार पढ़ चूका हूँ दिल नहीं भरता.....आँखे भर आती है.....अपनी भी पढ़ाई class 5th तक गाव मई हुई थी सो बचपन याद आ गया....

Ajit Singh said...

दोस्तों कि जगह बीबी कि बकवास :(
मुह मारी अइसन ज़िंदगी के ! ........सही कहला हो मुखियाजी :-)

Neo said...

कल घर जाते समय देखे, आम बिकते हुए. बचपन से ही खूब आम देखे हैं.
फिर भी, यहा का आम का जाति नहि पह्चाना जाता. पता नही कैसा हरा पीला लाल आम बेचता है लोग यहाँ...

दूसरा kategory है आम का जो यहा के माल सब मे बेचा जाता है. कूड का दिब्बा मे बंद कर के अंग्रेजी "अ‍ॅल्फोंसो" बोल के.
हम तो लँगड़ा माल्दा ही जानते हैं. कभी खाये नहि हैं अ‍ॅल्फोंसो, लेकिन इतना जांते हैं की लंगडा जैसा तो नही होगा.

आम का भी कुछ खास है अपने तरफ. आम सिर्फ फल नही है, बहुत चीज़ जुड़ा है आम से.

जब छोटे थे, रविवार का इंतेज़ार करते थे. उस दिन घर मे बाबूजी और सब चाचा लोग भी रह्ते थे, उस दिन खाना के बाद निकलता था चावल का बोरी से लंगड़ा. सुबह से उस समय का इंतज़ार रहता था.
आम निकला नहीं की ले के मुह में... यह पड़ी डांट " अरे बुडबक, ऊपर का मुंडिया काट के दू बूँद रस गिरा लो पहले... आम का लू निकालबे नहीं किया और लगा चाभने"...
जब तक आम कटा तब तक एक ठो चाभ के खा लिए और आंठी चूसते हुए आम का पीस होने का इंतज़ार कर रहे हैं. आम कटा, पहले अच्छा लाल वाला घर के बड़े लोग को बाँट दिया गया... फिर हमलोग बुतरू लोग में बाँटने का बारी आया.
कोई बुतरू रो रहा है उधर, उसको आंठी मिल गया है... कोई चाचा उठकर अपना पीस उसको देके चुप करवा देते हैं... कूड का डिब्बा से आम निकलके sophisticated तरह से चम्मच से खाने में मजा नहीं है. हाँथ मुह सब जगह रस लगना चाहिए, नहीं तो क्या आम खाया.

कोई किसी के घर आया गया तो एक दू किलो मालदा लेले गया. मिठाई खा के का मोटाइयेगा जी लीजिये आम खाइए... प्रेम से रखा गया, और वही आम एक ठो काटकर गेस्ट को भी परोसा गया... साथ खाना खाते हुए, "चिन्नी फेल है इतना मीठा है"...
बुतरू पार्टी गेस्ट का लाया आम पे आँख जमा लिया है... अंदरे अन्दर पूरा प्लान बन चूका है की दोपहर में जब सब सो जायेगा तो आम कैसे चोराया जायेगा और कहा चुप कर खाया जायेगा.

अब कूड का डिब्बा वाला अलफोंसो खाने का जी नहीं करता. लगबे नहीं करता की आम खाए हैं...

Anonymous said...

बहुत बोलती हैं ये बातें तुम्हारी ..
जब भी बोलती है बहुत बोलती है...
वो अम्मा की रोटी वो पिताजी की झिडकी,
वो भैया का प्यार वो दीदी की ठिठोली ,
बहुत आयद आती हैं बातें वो सारी ,
बहुत बोलती हैं .......
आपके शब्द ऐसे जो दिल को हिला दे ,
वो छूटे से ख्वाबो को फिर से जगा दे ,
बहुत बोलती हैं .....
meri kuch abhivyakti... savan padhne ke baad.....