Saturday, November 17, 2007

हे ! छठी मैया !



ऊपर वाले फोटो को सिएटल टाईम्स ने अमरीका मे प्रकाशित किया है ! यह हमारी श्रद्धा , बिस्वास , शुद्धता को बयां करता है ! खबरिया चैनल वालों ने भी कल कुछ खास प्रोग्राम भी दिखाया ! दोपहर मे जी न्यूज़ वालों का स्पेसल प्रोग्राम आ रहा था ! देखते देखते ही आंखों से आंसू आने लगे ! सहारा समय भी दिखाया !
एक खास चॅनल जिसको बिहार मे सिर्फ गूंडा तत्व ही नज़र आते हैं और उनके स्पेशल संपादक जो खुद बिहार के रहने वाले हैं और नीतिश काल मे वह बिहार नही गए हैं , ने छठ पूजा को भरपूर नज़र-अंदाज़ करने की कोशिश की !
खैर - सबकी अपनी अपनी श्रद्धा है ! अब वह दिन दूर नही है जब मन्हात्तन की गलियों मे बिहारी भाई - बहन अपने माथा पर "डाला" उठा कर , नंगे पाँव निकलेंगे !
एक पंजाबी अमेरिका जाता है - पुरा गाँव चला जता है !



रंजन ऋतुराज सिंह , नॉएडा

3 comments:

manglam said...

बहुत ही अच्छा लगा। बिहार और बिहारियों की प्रतिभा को नकारा नहीं जा सकता। हां, पिछले १०-१५ साल में इसकी खामियों पर ही ज्यादा फोकस रहा है। मीडिया हो या तथाकथित महानुभाव, ज्यादा दिनों तक इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते। बहुत-बहुत साधुवाद इस जानकारी के लिए।

Sanjay Sharma said...

कौन हमारे बारे के क्या कहता है ,क्या नही इस पर गौर करने के बजाय अपनी संस्कृति गाथा गाते रहना है.
हम डूबते सूर्य को भी पूजते हैं उगते सूर्य को भी पूजते हैं. और ये पत्रकार ,ये चैनल अगर उगते को अगरबत्ती
दिखा रहा है तो दिखाने दिया जाए. हमारी पूजा विधि कठिन है.इसलिए नक़ल नही कर पा रहा दूसरा राज्य
श्रद्धा और कौतुहल तो पैदा कर ही दिया है पूरे विश्व मे .

Fighter Jet said...

Who can ignore the light of SUN..not even the darkest of dark corners!...and morever,one can shut ones eyes..but that does not mean there is no light!There is one thing about Bihar..you love it or hate it...but cant ignore it :)