Friday, August 17, 2007

करियेगा खेला ?


करिएगा खेला ? धर लिए , उनका कालर ! अब , केने जईयेगा भाई जीं ? बुझौवल बुझाते हैं ? सोझ रहिए ना ता पब्लिक कपार फाड़ देगा ! अंग्रेज़ी पढाते हैं ? जहाँ के आप विद्यार्थी है नु, हमनी वोही जा के प्रिंसिपल है ! रे मुन्ना वा , पप्पुआ , गुद्दुआ - लो ता रे , लाओ - लाठी , ई ससुरा जिनगी नासे हुये है ! हे , बाबा , हेने आईये , हेने ! देखिए ई का बतिया रहा है ! तनी , आप ही पुछीये येकरा से ! का दो - का दो बक रहा है ! ये चाची - चाची हो , तनी येकर jhontawa धरे रहिए ता ! रे गुद्दुआ - गुद्दुआ , केने गया रे ? सुन हेने ! तनी बुलाओ तो पुत्तन चाचा के - उहे येकरा ठीक करेंगे ! आवे दे , पुत्तन चाचा के - उहे तोर बुखार छुद्वायेंगे !

रंजन ऋतुराज सिंह , नौएडा

5 comments:

Sanjay Sharma said...

Munna maatchis laane gaya hai.Pappua jab se paas hua
hai tab se paapad fodane me
laga hai.Putan Chacha Dhoti
sukha rahe hai.Chachi jab tak
jhonta pakarle hai.tab dher kahela kar raha hai.Eklati bol de.lagega
so dekha jayega.Daroga aajkal apane jaati ka hai.

Isht Deo Sankrityaayan said...

बेल्कुल फीट रंजन जी! ई सरकार लोग जून है न तौन ऐसन्के कर रहा है. बधाई आपको.

Udan Tashtari said...

बेहतरीन-कार्टून बहुते सही.

bibhaw kumar said...

काफी दिनो से दालान की चर्चा सुन रहा था, लेकिन आज काफी प्रयास के बाद् पढने को मिला, आपके कलम की दाद देनी पडेगी क्या गजब लिखा है आह मजा आ गया......

bibhaw kumar said...

काफी दिनो से दालान की चर्चा सुन रहा था, लेकिन आज काफी प्रयास के बाद् पढने को मिला, आपके कलम की दाद देनी पडेगी क्या गजब लिखा है आह मजा आ गया......